मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद माने निर्दलीय ‘शेरा’, वापस लेंगे नामांकन

CM-meets-Shera

भोपाल। कांग्रेस में लगातार बागियों को मनाने की कवायद जारी है। इसी के चलते मंगलवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ और निर्दलीय विधायक सुरेन्द्र सिंह शेरा की मुलाकात हुई | इस मुलाकात में कमलनाथ ने शेरा को उनकी पत्नी का नामांकन वापस लेने की बात कही, साथ ही कांग्रेस को मजबूत करने को कहा। बताया जा रहा है कि चुनाव के बाद उन्हें मंत्री बनाने का आश्वासन दिया गया है। ऐसे में माना जा रहा है कि आज अरुण यादव शेरा से मुलाकात कर सकते है। बता दे कि टिकट ना मिलने से नाराज शेरा ने अरुण यादव के खिलाफ अपनी पत्नी को निर्दलीय मैदान में उतारा है| तब से ही उन्हें मनाने की कोशिश जारी थी । इस मुलाक़ात के बाद शेरा ने नामांकन वापस लेने का एलान किया है|  वही आज खंडवा में खंडवा प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट ने सुरेंद्र सिंह से मुलाकात की, क़यास लागए जा रहे है कि शेरा भैया को लोकसभा चुनाव के बाद बड़ी जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। 

दरअसल, कांग्रेस में टिकट वितरण के बाद से ही घमासान मचा हुआ है। सरकार बनने के बाद मंत्री पद ना मिलने से नाराज निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा लोकसभा चुनाव में टिकट ना मिलने से और  नाराज हो गए है और उन्होंने बगावत करते हुए अपनी पत्नी को निर्दलीय खंडवा से मैदान में उतार दिया है। वैसे अधिकारिक तौर पर कांग्रेस ने पूर्व प्रदेशाध्य़क्ष अरुण यादव को उम्मीदवार बनाया है। शेरा की पत्नी ने निर्दलीय नामांकन भी भर दिया है| जिसके बाद से ही उन्हें मनाने की कोशिश की जा रही थी| 

सरकार को समर्थन दे रहे निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा ने मंगलवार को सीएम कमलनाथ से मुलाकात की है। सूत्रों के मुताबकि कमलनाथ ने उन्हें चुनाव के बाद मंत्री बनाने की बात कही है। मुलाकात के बाद शेरा ने कहा कि मुख्यमंत्री ने पत्नी का नामांकन वापस लेने की बात कही है,  साथ ही उन्हें आश्वासन दिया है कि चुनाव के बाद मंत्री बनाएंगें और संगठन में भी अहम पद पर जिम्मेदारी देंगें। साथ ही उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि खुद अरुण यादव उनसे मुलाकात करने आएंगें। मुलाकात के बात यादव की मुश्किलें कम होती नजर आ रही है| कमलनाथ से मुलाकात के बाद सुरेंद्र सिंह ने अपनी पत्नी का नामांकन वापस लेने का एलान कर दिया है| निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह के मानने से क्षेत्र में कांग्रेस को सबसे ज्यादा फायदा होगा| उन्होंने विधानसभा चुनाव में पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस को हराया था, इस सीट पर कांग्रेस तीसरे नंबर पर रही थी | कांग्रेस की जमानत जब्त हो गई थी | जीत के बाद से ही सुरेंद्र सिंह कांग्रेस के संपर्क में रहकर सरकार को अपना समर्थन दे रहे है। सम्भवतः 2 मई को जयश्री ठाकुर अपना नामंकन पत्र वापस ले सकती है।