MP News : 748 करोड़ रूपए की 6 महत्वपूर्ण परियोजनाएं स्वीकृत, सीएम शिवराज ने अधिकारियों को दिए निर्देश, किसान-आम जनता को मिलेगा लाभ

CM Shivraj on 6 irrigation Project : मध्य प्रदेश में विकास कार्य को समय सीमा में पूरा करने के निर्देश देने के साथ ही अब सीएम शिवराज द्वारा वृहद परियोजनाओं के कार्य तय समय सीमा और गुणवत्तापूर्ण पूरा किया जाए,  इसके निर्देश दिए गए हैं। सीएम शिवराज द्वारा जल संसाधन विभाग की 6 वृहद परियोजनाओं की स्वीकृति की अनुशंसा की गई। इसके लिए 38470 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई क्षमता में वृद्धि हो सकेगी।

इसके लिए 748 करोड 57 लाख रुपए का अनुमानित लागत तय किया गया है।CM शिवराज द्वारा वृहद परियोजना नियंत्रण मंडल की 170 बैठक की अध्यक्षता में इस पर अनुशंसा की गई है।

इन सिंचाई परियोजनाओं की स्वीकृति 

इन सिंचाई परियोजनाओं में हरवा खेड़ी बैराज मध्यम योजना, पांग्री मध्य माइक्रो सिंचाई परियोजना, लामटा प्रेशराइज्ड पाइप इरिगेशन नेटवर्क परियोजना, जैरा मध्यम माइक्रो उद्धहन सिंचाई परियोजना, सामा कोटा बैराज सिंचाई परियोजना, टेम मध्यम सिंचाई परियोजना शामिल है। इन परियोजनाओं पर सीएम शिवराज ने बड़े निर्देश दिए हैं। सीएम शिवराज ने कहा कि परियोजना का काम तेजी से पूरा किया जाना चाहिए।

हरबाखेड़ी बैराज मध्यम परियोजना

उज्जैन की महिदपुर तहसील की शिप्रा नदी पर प्रस्तावित हरबाखेड़ी बैराज मध्यम परियोजना माइक्रो सिंचाई पद्धति पर आधारित है। इसके लिए अनुमानित लागत 104 करोड़ 28 लाख रुपए तय किए गए हैं। परियोजना में 10.76 एमसीएम के बैराज और दाव युक्त पाइप नहर का निर्माण कार्य किया जाना है। इसे महिदपुर तहसील में 3050 हेक्टेयर क्षेत्र में रबी फसलों की सिंचाई की जा सकेगी।

लामटा प्रेशराइज्ड पाइप इरिगेशन नेटवर्क परियोजना

बालाघाट के परसबाड़ा विकासखण्ड में प्रस्तावित लामटा प्रेशराइज्ड पाइप इरिगेशन नेटवर्क परियोजना को स्वीकृति दी गई। परियोजना की लागत 137 करोड़ 26 लाख रूपये है। परियोजना में लगभग 100 वर्ष पूर्व निर्मित क्षतिग्रस्त हिस्से की अपस्ट्रीम में पम्प हाउस का निर्माण कर हॉज सिस्टम से 55 ग्रामों की 9,630 हेक्टेयर भूमि पर खरीफ की फसल में सिंचाई की जा सकेगी।

जैरा मध्यम माइक्रो उद्वहन सिंचाई परियोजना

सागर की जैरा मध्यम माइक्रो उद्वहन सिंचाई परियोजना को स्वीकृति दी गई। इसकी अनुमानित लागत 102 करोड़ 52 लाख रूपये है। इससे 5400 हेक्टेयर में सिंचाई सुविधा उपलब्ध होगी। इसमें बाँध निर्माण, प्रेशराइज्ड पाईप इरिगेशन प्रणाली का कार्य किया जाएगा।

सामाकोटा बैराज सिंचाई परियोजना

उज्जैन की सामाकोटा बैराज सिंचाई परियोजना को स्वीकृति दी गई। इसकी अनुमानित लागत 141 करोड़ 11 लाख रूपये है। इससे लगभग 6 हजार हेक्टेयर में सिंचाई हो सकेगी।

पांगरी मध्यम माइक्रो सिंचाई परियोजना

बुरहानपुर की खकनार तहसील में बड़ी उतावली नदी पर प्रस्तावित पांगरी मध्यम माइक्रो सिंचाई परियोजना को स्वीकृति दी गई। परियोजना की अनुमानित लागत 112 करोड़ 50 लाख रूपये है। परियोजना के पूरा होने से बुरहानपुर जिले की खकनार तहसील के 10 ग्रामों में 4400 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा उपलब्ध हो सकेगी।

टेम मध्यम् सिंचाई परियोजना

विदिशा जिले की टेम मध्यम् सिंचाई परियोजना को भी स्वीकृति दी गई। परियोजना में बाँध निर्माण का कार्य प्रारंभ किया जा चुका है। परियोजना में बाँध निर्माण तथा प्रेशराइज्ड पाइप नहर निर्माण का कार्य शामिल है। परियोजना की अनुमानित लागत 151 करोड़ 28 लाख रूपये है। इससे 47 ग्रामों के 9,990 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा उपलब्ध हो सकेगी।