सीएम शिवराज ने “लाड़ली बहना योजना” के बारे में कही बड़ी बात, किसानों के खातों में ट्रांसफर की 1465 करोड़ की राशि

Atul Saxena
Published on -

MP Ladli Behna Yojana : लाड़ली लक्ष्मी योजना के माध्यम से  भांजियों का भविष्य संवारने वाले सीएम शिवराज अब बहनों की चिंता कर रहे हैं, उन्होंने पिछले दिनों “लाड़ली बहना योजना” की घोषणा की और अब इसके क्रियान्वयन की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं, सीएम ने घोषणा की कि लाड़ली बहना योजना के तहत आवेदन अंतर राष्ट्रीय महिला दिसंबर से लिए जायेंगे। विदिशा में अज शुक्रवार को मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान (CM Jan Seva Abhiyan) कार्यक्रम में पहुंचे सीएम शिवराज ने उनकी सरकार की कल्याणकारी योजनाओं के बारे में विस्तार से बताया और कांग्रेस की 15 महीने की सरकार ने कैसे किन कल्याणकारी योजनाओं को बंद किया वो भी बताया।

कमल नाथ को लिया निशाने पर 

सीएम शिवराज (CM Shivraj Singh Cha‍‌‍uhan) ने विदिशा में मौजूद लोगों से कहा कि आपकी जिंदगी आसान बने, सरल बने, तकलीफ और कठिनाई दूर हों, इसके लिए पहले भी कई योजनाएँ बनाई गई हैं। लेकिन कमल नाथ ने मुख्यमंत्री बनने के बाद सभी योजनाएँ बंद कर दी थी। संबल योजना जिससे हम गरीब गर्भवती बहनों को 16,000 रुपये देते थे, भांजे-भांजियों की फीस भरवाते थे, वो बंद कर दी। मेधावी विद्यार्थियों को दी जाने वाली स्कॉलरशिप, स्मार्टफोन, लैपटॉप बंद कर दिए।

जो किसी ने नहीं किया, वो तुम्हारा भैया करेगा

उन्होंने कहा कि मेरी बहनों, आप घर की हर जरूरत को पूरा करती हो। मेरा मानना है कि पिता से ज्यादा बच्चों की चिंता माँ करती है। खुद भूखी सो जाती है लेकिन बच्चों को भरपेट खिलाती है, महिला अन्नपूर्णा कहलाती है। ऐसी स्थिति में मेरी बहनों, तुम्हें खर्चे के लिए पैसे चाहिए, जो कहीं नहीं हुआ, वो मध्य प्रदेश में होगा, जो किसी ने नहीं किया, वो तुम्हारा भैया करेगा।

ये है लाड़ली बहना योजना 

शिवराज ने कहा कि मैंने तय किया है कि सारी बहनें, जिनका अपना परिवार है और जो गरीब हैं, किसान परिवारों से आती हैं, जो इनकम टैक्स नहीं देती, किसान मजदूर, मध्यमवर्गीय, निम्न मध्यमवर्गीय, ऐसी बहनों के खातों में तुम्हारा भाई प्रतिमाह एक हजार रुपये डलवाएगा। इस योजना का नाम है लाड़ली बहना योजना।

मैं भांजियों की तरह बहनों से भी बहुत स्नेह करता हूँ 

हमने भांजियों के लिए भी योजना बनाई लेकिन मैं अपनी बहनों को भी उतना ही स्नेह करता हूँ। हमने मध्य प्रदेश में कई योजनाएँ बनाई हैं, जिनमें से लाड़ली लक्ष्मी योजना प्रमुख है। अब मध्य प्रदेश में बेटी लखपति पैदा होती है। अगर मेरी लाड़ली लक्ष्मी बेटियों का एडमिशन उच्च शिक्षण संस्थान में होगा, तो फीस कितनी भी हो, वो फीस मैं भरवाऊंगा। तुम्हारी जिंदगी में कोई ऐसी कमी मैं नहीं रहने दूंगा, तुमको यह नहीं लगेगा, कि काश मेरे पास भी ऐसा होता।

कमल नाथ ने तो लड्डू भी छुड़ा लिए थे 

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने तो कभी ऐसी योजना नहीं बनाई। कमल नाथ ने तो लड्डू के पैसे भी छुड़ा लिए थे। बैगा, भारिया और सहरिया जनजाति की बहनों को मैं पेंशन देता था, वो पैसे भी छुड़ा लिए। हमने तो बहनों को चुनाव में भी आरक्षण दिया। 50 प्रतिशत रिजर्वेशन हमने शिक्षकों की भर्ती में बहनों को दिया, पुलिस भर्ती में 30 प्रतिशत रिजर्वेशन दिया। अब जो योजना है, लाड़ली बहना योजना, इसके फॉर्म 8 मार्च मतलब अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस को भरवाना शुरू होंगे। यह प्रक्रिया हम कठिन नहीं बनाएंगे।

सास की भी इज्जत बढ़ेगी और बहू की भी बढ़ेगी

गाँव और वॉर्ड में ही कर्मचारी आएंगे, वहीं आसान फॉर्म भरवाएंगे। पूरी सूची बनेगी और दो-तीन महीने में प्रक्रिया पूरी कर सबके खातों में पैसे डालूँगा। हर साल 12 हजार करोड़ रुपये बहनों के खाते में जाएगा। मुझे पूरा विश्वास है कि तुम ये पैसे अपने परिवार की जरूरत पूरा करने में ही खर्च करोगी। अब सास की भी इज्जत बढ़ेगी और बहू की भी इज्जत बढ़ेगी। मैं चौथी बार इसीलिए मुख्यमंत्री बना हूँ कि आप सभी की जिंदगी में परिवर्तन कर सकूँ।

कांग्रेस ने किसानों के लिए कुछ नहीं किया 

किसानों को संबोधित करते हुए शिवराज ने कहा “मेरे किसान भाइयों, आज मैं आपसे पूछना चाहता हूँ कि कांग्रेस ने आपके लिए क्या कर दिया? अकेले मोदी जी और शिवराज के पैसे मिला लें, तो सीधे खाते में प्रतिवर्ष 10,000 रुपये आपको मिलेंगे।कमल नाथ ने तो कर्जमाफ़ी का झूठा वादा करके किसानों को डिफ़ॉल्टर बना दिया। हम आपके सिर पर रखी ब्याज की गठरी को उतारेंगे।

हमारी सरकार ने भरा बीमा का 2200 करोड़ रुपये प्रीमियम 

उन्होंने कहा कि जब कमल नाथ जी मुख्यमंत्री थे, तब मैंने उनसे गुहार लगाई कि किसानों को मुआवजा मिल जाए, लेकिन मुआवजा नहीं मिला। हमने फसल बीमा योजना में पिछले ढाई साल में ही 17,140 करोड़ रुपये किसानों के खातों में डाले हैं। जब इन्होंने प्रीमियम का पैसा नहीं भरा था, तब मैंने मुख्यमंत्री बनते ही सबसे पहले 2,200 करोड़ रुपये का पैसा प्रीमियम के रूप में भरा जिससे किसानों को 3,000 करोड़ रुपये मिले।

सीएम जन सेवा अभियान में 38 योजनाओं का लाभ 

आपको जो बिजली 3700 रुपये में मिलती है, उसके लिए हम 51 हजार रुपये भरते हैं। हमने कुल 2,25,000 करोड़ रुपये किसानों के खातों में डाले हैं। गरीबों को योजनाओं का लाभ प्राप्त करने के लिए भटकना पड़ता था। लगभग 38 योजनाओं का लाभ देने के लिए मैंने सीएम जनसेवा अभियान शिविर लगवाये।

विकास यात्रा 5 फरवरी से, जो छूट गया इसमें लाभ मिलेगा  

शिवराज ने कहा कि अभी कोई छूट गया हो, तो विकास यात्रा 5 फरवरी को चालू होगी, उसमें नाम जुड़वा लेना। कोई भी वंचित नहीं रहेगा। पूरे मध्य प्रदेश में हमने 83 लाख नए नाम जोड़े हैं। आदमी को जिंदा रहने और जिंदगी की गाड़ी चलाने के लिए जितनी चीजें चाहिए, उसकी व्यवस्था हमारी सरकार कर रही है।

सभी गरीबों को मुफ़्त राशन, रहने के लिए पीएम आवास योजना के तहत मकान, रहने की जमीन और इलाज के लिए आयुष्मान भारत योजना। यह जनता की जिंदगी बदलने का अभियान है। कांग्रेस तो केवल बातें करती है। एक तरफ ये सारे काम चल रहे हैं, दूसरी तरफ हम मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई हिन्दी माध्यम से करवा रहे हैं। हमने गुलाम मानसिकता को खत्म करने का फैसला लिया है।

सीएम शिवराज ने "लाड़ली बहना योजना" के बारे में कही बड़ी बात, किसानों के खातों में ट्रांसफर की 1465 करोड़ की राशि

कुछ माफियाओं ने लोगों के प्लॉट और जमीन दबा ली थी, मैंने साफ कहा है कि मध्यप्रदेश में गुंडागर्दी और दादागिरी नहीं चलेगी। मामा का बुलडोजर चलता है, माफियाओं को तोड़-ताड़ के अलग कर देते हैं। 23,000 एकड़ जमीन मैंने छुड़ाई है, वो गरीबों में बाँट दूंगा। लूटने वाला जाएगा, कमाने वाला खाएगा, नया जमाना आएगा। आपकी जिंदगी बदलने के लिए भाजपा सरकार लगातार आगे बढ़ रही है। मुझे आप सभी का साथ चाहिए, ताकि मैं ये काम आगे बढ़ा सकूँ।

सीएम शिवराज ने "लाड़ली बहना योजना" के बारे में कही बड़ी बात, किसानों के खातों में ट्रांसफर की 1465 करोड़ की राशि

विदिशा में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान में भोपाल, सागर और उज्जैन संभाग के 24 लाख 94 हजार से अधिक हितग्राहियों को स्वीकृति-पत्र वितरित किये। इस मौके पर सीएम ने प्रदेश के 73 लाख किसानों के खातों में मुख्यमंत्री किसान-कल्याण योजना की राशि एक हजार 465 करोड़ रुपये सिंगल क्लिक से ट्रांसफर की। साथ ही 80 करोड़ 95 लाख 21 हजार रूपये के विकास कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास भी किया।

 


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News