शिवराज ने बताया ‘कैसे बनायेगी सरकार हर जिले को आत्मनिर्भर’

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने भोपाल (Bhopal) के लाल परेड ग्राउण्ड परिसर के मोतीलाल नेहरु स्टेडियम में आयोजित राज्यस्तरीय स्वतंत्रता दिवस समारोह (Independence Day) में ध्वजारोहण किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी। अपने सम्बोधन में मुख्यमंत्री ने बताया कि कैसे प्रदेश के हर जिले को सरकार आत्मनिर्भर बनाएगी|

सीएम शिवराज ने कहा मध्य प्रदेश के हर एक जिले की अलग-अलग विशेषता है। कहीं संतरा अच्छा पैदा होता है, कहीं साड़ियां अच्छी बनती है, कहीं केला अच्छा पैदा होता है। “एक जिला एक उत्पाद” को बढ़ावा देकर हम उस जिले को विशेष रूप से खड़ा करने का प्रयास करेंगे।

जहां नारी की पूजा होती है, वहाँ देवता निवास करते हैं
मुख्यमंत्री ने कहा इसी साल हमने 78000 लाड़ली लक्ष्मी योजना के सर्टिफिकेट जारी जारी किए हैं। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के अंतर्गत मध्यप्रदेश सरकार ने बहुत बेहतर काम करके दिखाया है। बेटी बचाओ अभियान नए सिरे से मध्यप्रदेश में चलाया जाएगा। महिला सशक्तिकरण में यह सरकार कोई कमी नहीं छोड़ेगी। मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना नए सिरे से प्रारंभ करने का अभियान हम चला रहे हैं। यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवताः। जहां नारी की पूजा होती है, वहाँ देवता निवास करते हैं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा महिला सशक्तिकरण के लिए हमने एक नहीं अनेकों कार्य प्रारंभ किए हैं। बहनों और बेटियों में गजब की रचनात्मक शक्ति होती है। इस शक्ति के दर्शन हमने कोरोना काल में भी किए जब हमारे पास पीपीई किट नहीं थे, हमने अपने महिला सेल्फ हेल्प ग्रुप से कहा और उन्होंने 1 लाख 14 हज़ार पीपीई और 1 करोड़ 12 हज़ार मास्क बनाकर हमें दे दिए। स्वयं सहायता समूह को बढ़ावा दिया जाएगा। हमने तय किया है कि इस साल लगभग 13 सौ करोड़ रुपए का लोन केवल चार प्रतिशत इंटरेस्ट रेट पर उन्हें दिया जाएगा। मेरी स्वयं सहायता समूह की बहने जो सामान बनाएंगी उसकी पैकेजिंग और मार्केटिंग में हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

किसानों से ऑनलाइन संवाद करेंगे
मुख्यमंत्री बोले अब तक तो मैं पंचायतें कर लेता लेकिन कोरोना ने पंचायतें होने नहीं दी। जरूरत पड़ी तो किसानों से ऑनलाइन संवाद स्थापित किया जाएगा और उनके कल्याण के अनेकों कदम उठाए जाएंगे प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का योजना पंद्रह सौ करोड़ रुपए भी किसानों के अकाउंट में डाला है। आत्मनिर्भर भारत के तहत कृषि अधोसंरचना के लिए 1 लाख करोड रुपए का ऐलान किया गया है। इन 1 लाख करोड रुपए में से साढ़े सात हजार करोड़ मध्यप्रदेश प्रदेश का हिस्सा बनता है। वेयरहाउस, कोल्ड स्टोरेज की चैन जैसे अधोसंरचना के लिए आवश्यक काम करते हुए इस राशि का उपयोग करेंगे। केवल परंपरागत खेती नहीं हॉर्टिकल्चर को बढ़ावा देने का नया अभियान प्रारंभ किया जाएगा। फलों और फूलों की खेती, सब्जियों की खेती, मधुमक्खी पालन जैसे नए-नए क्षेत्रों में तेजी से कार्य प्रारंभ करेंगे।

पिछड़ा वर्ग आरक्षण के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ेंगे
सीएम शिवराज ने कहा अनुसूचित जाति के बेटे बेटियों के लिए हमने ज्ञानोदय विद्यालय प्रारंभ किए हैं। लगभग 55 लाख से ज्यादा बच्चों की छात्रवृति उनके खाते में हमने डालने का काम किया है। हम पाखंड में भरोसा नहीं रखते लेकिन पिछड़े वर्ग के 14% की जगह 27% आरक्षण देने के लिए हम न्यायालय में कोई कोर कसर नहीं छोड़ेंगे। सामान्य वर्ग के निर्धन बेटे बेटियों को 10% आरक्षण का लाभ देने का हमारा अभियान जारी है। सामाजिक न्याय यह हमारी प्रतिबद्धता है और इसको हम देकर ही रहेंगे।