विदेश में राजनीतिक बयान देकर CM ने किया वीजा शर्तों का उल्लंघन : नेता प्रतिपक्ष

CM-violates-visa-conditions-by-giving-political-statement-abroad--gopal-bhargav

भोपाल। दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में हिस्सा लेने पहुंचे मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा दिए गए राजनीतिक बयान पर नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा कि कमलनाथ का विदेश की धरती स्विट्जरलैंड में मध्यप्रदेश की राजनीति के बारे में दिया गया राजनैतिक बयान अत्यधिक आपत्तिजनक और शर्मनाक है। विदेश की धरती पर भारत के एक राज्य की राजनीति के बारे में बयान देकर उन्होंने वीजा की शर्तों का उल्लंघन भी है।  

मुख्यमंत्री ने बयान दिया कि भाजपा के पांच विधायक उनके संपर्क में है और कांग्रेस में शामिल होने को तैयार हैं। जिस पर भार्गव ने प्रतिक्रिया दी है। भार्गव ने कहा कि कमलनाथ स्विट्जरलैंड की वादियों में सीएस मोहंती, सुलेमान, बर्णवाल जैसे आधा दर्जन ब्यूरोक्रेट्स और एक दर्जन व्यापारियों के साथ कितने उद्योग और कितना निवेश प्रदेश में लाते है ? यह प्रदेश उनके लौटने पर जानना चाहेगा, खासतौर पर प्रदेश के बेरोजगार साथियों में इस बात को लेकर खासी उत्सुकता है। आगामी विधानसभा सत्र में इस महत्त्वपूर्ण विषय पर चर्चा अवश्य करवाई जाएगी। ताकि यह खुलासा हो सके कि कमलनाथ राज्य की राजनीति करने विदेश गए थे या प्रदेश को बदनाम करने।

गौरतलब है कि दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में हिस्सा लेने के लिए पहुंचे मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा एक टीवी चैनल से इंटरव्यू के दौरान ये बाते कही थी।उन्होंने कहा था कि बीजेपी के पांच विधायक मुझसे मिलने आए और उन्होंने कांग्रेस में शामिल होने की मंशा जाहिर की थी। उन्होंने मुझसे कहा कि अब उन्हें ऐसा महसूस हो रहा है कि बीजेपी में उनका कोई भविष्य नहीं है। उन्होंने बीजेपी पर एक बार फिर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि बीजेपी कांग्रेस विधायकों की खरीद फरोख्त की कोशिश में है। उन्होंने कहा कि बीजेपी के लोग लगातार कोशिश कर रहे हैं। मुझे पांच विधायकों ने बताया कि उनको बीजेपी की ओर से कई तरह के प्रलोभनों भी दिए गए। कमलनाथ के मुताबिक बीजेपी के 5-6 विधायक लगातार उनके संपर्क में हैं लेकिन फिलहाल उन्हें उनकी जरूरत नहीं।