बर्फीली हवाओं का कहर, शीतलहर की चपेट में प्रदेश

cold-wave-temperature-down-in-state

भोपाल। मध्य प्रदेश में मौसम ने एक दम से करवट बदली है। दस साल बाद राजधानी में पारा लुढ़क कर 4.9 पहुंच गया। ठंड़ का सबसे ज्यादा असर राजधानी भोपाल में देखा गया, जहां पिछले दो दिन में रात का पारा लगभग आठ डिग्री तक लुटककर पांच डिग्री के आसपास पहुंच गया। 

राजधानी भोपाल तथा उसके आसपास के क्षेत्रों में शीतलहर के चलते पारा में जबर्दस्त गिरावट का दौर जारी है। राजधानी में गुरूवार की रात सबसे ठंडी रही। आम जनजीवन प्रभावित हुआ है और लोग ठंड़ से ठिठुर रहे हैं।

मौसम विभाग के अनुसार लगातर उत्तर की ओर से आ रही बर्फीली हवाओं के चलते पूरा प्रदेश ठंड से ठिठुर रहा है। इसका सबसे ज्यादा असर राजधानी भोपाल, उज्जैन, होशंगाबाद और इंदौर में रहा, जहां पिछले दो दिनों में पारा में अप्रत्याशितरूप से गिरावट हुई है। भोपाल में पिछले चौबीस घंटे के दौरान चार डिग्री तथा 48 घंटों के दौरान लगभग आठ डिग्री तक पारा लुढक गया, जिसके चलते पूरी राजधानी ठंड़ की गिरफ्त में है।

माना जा रहा है कि यह बदलाव हवा में नमी की कमी और पश्चिमी विझोभ के पास हो जाने की वजह से हुआ है। वहीं बैतूल प्रदेश का सबसे ठंड नगर रहा, जहां न्यूनतम तापमान दो डिग्री पर पहुंच गया है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि बैतूल में कुछ स्थानों पर पाला भी पडऩे की संभावना हैं, लेकिन अभी इसकी जानकारी नहीं आयी है। इसके अलावा खजुराहो और उमरिया में कड़ाके की ठंड़ की चपेट में हैं, जहां पारा तीन-तीन डिग्री रिकार्ड किया गया। आगामी कुछ दिनों तक ठंड़ के तेवर में कमी दिखती नजर नहीं आ रही। दिन के साथ रात का पारा फिलहाल इसी तरह से बना रहेगा। हालांकि माना जा रहा है कि नए वर्ष में एक बार फिर पारा उछलेगा, जिससे ठंड़ से राहत की उम्मीद लगाई जा सकती है।