कलेक्टर, डीआईजी और निगम आयुक्त ने 10वीं बार किया शहर का दौरा, 200 स्पॉट पर पहुंचे

 भोपाल। अयोध्या का फैसला आने के बाद शहर में शांति पूरी तरह से बहाल है। एहतियातन चौकसी अब भी जारी है। रविवार और सोमवार को भी शहर में 6 हजार जवानों की तैनाती रखी जाएगी। जिसमें जिला पुलिस बल सहित एसएएफ,एसटीएफ,क्युआरएफ,आबकारी,पीटीएस तिगरा,पंचमढ़ी,भौंरी का पुलिसबल भी शामिल है। राजधानी के करीब दो सौ स्थानों पर नाकाबंदी जारी है। जिससे सुरक्षा में किसी भी प्रकार की चूक न हो सके। रविवार सुबह से ही डीआईजी इरशाद वली सहित तमाम पुलिस के आला अधिकारी और कर्मचारी शहर की सुरक्षा व्यवस्था का जाएजा लेते रहे। आस्माजिक तत्वों पर पुलिस की पैनी नजरें लगातार बनी हुई हैं।

जानकारी के अनुसार राजधानी की सुरक्षा के मद्दे नजर रविवार को शहर में निकलने वाले ईदमिलादुननबी के जुलूस सहित तमाम सलसों और जुलूसों को कैंसल कर दिया गया। शहर में शराब की बिक्री पर पूरी तरह से रोक जारी है। रविवार को भोपाल के कई मार्केट सामान्य रूप से खुले हुए नजर आए। हालांकि पुलिस ने कहीं भी भीड़ एकत्र नहीं होने दी|  सुरक्षा समिति के लोग भी पुलिस के साथ बीते 48 घंटे से लगातार शहर की सड़कों पर तैनात रहे। सोशल मीडिया की निगरानी अब भी जारी है। पुलिस का कहना है कि वाट्सऐप,फेसबुक पर आपत्तिजनक पोस्ट करने वालों के खिलाफ लगातार कार्रवाई जारी रहेगी। आतिशबाजी पर प्रतिबंध पूरी तरह से जारी है। पिपलानी पुलिस ने क्षेत्र में अवैध रूप से पटाखों की बिक्री करते शनिवार की रात एक युवक को गिरफ्तार किया है। पुलिस का कहना है कि धारा 144 का उल्लंघन करने वाले किसी भी शक्स को बकशा नहीं जाएगा। शासकीय आदेश की अवमानना करने वालों पर कार्रवाई जारी रहेगी।

– भीड़ न लगाएं चलते रहें

रविवार की शाम शहर का अति संवेदनशील क्षेत्र इतवारा, बुधवारा,शाहजहांनाबाद, छोला और टीला जमालपुरा में पुलिस के गश्ती दल चाय पान की दुकानों पर भीड़ को एकत्र नहीं होने दे रहे थे। लाउड स्पीकर से अनाउंसमेंट किया जा रहा था। पुलिसकर्मियों द्वारा अनाउंसमेंट में एक ही बात कही जा रही थी। चलते-फिरते रहें। एक स्थान पर भीड़ न लगाएं। झुंड बनाकर खड़े न हों। रविवार देर रात तक शहर में शांति पूरी तरह से बहाल रही।

– दस बार किया शहर का दौरा, दो सौ पाइंट्स चेक

डीआईजी इरशाद वली, कलेक्टर तरुण पिथौड़े और नगर निगम कमिशनर विजय दत्ता ने शुक्रवार रात 10 बजे से लेकर आज शाम 7 बजे तक 10 बार से अधिक बार भोपाल शहर का निरीक्षण किया है।  इस दौरान तीनों ने शहर में करीब 200 से अधिक पाइंट्स को चेक किया। देर रात तक इनकी तिकड़ी शहर की व्यवस्थाओं पर नजरें बनाई रही।