कलेक्टर चुनाव के लिए तैयार हो जाएं- VC में बोले राज्य निर्वाचन आयुक्त

MP में पंचायत और नगरीय निकाय चुनाव के मतदान को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग ने बड़ा फैसला लिया है। एमपी में पंचायत चुनाव बैलेट पेपर से कराया जाएगा। वहीं नगरीय निकाय चुनाव ईवीएम (EVM) से होंगे।

पंचायत चुनाव

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश के भोपाल में राज्य निर्वाचन आयोग ने प्रदेश के कलेक्टर के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान संकेत दे दिए है कि जून माह में नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव करा लिए जाएंगे। पहले नगरीय निकाय चुनाव होंगे जिसमें पार्षदों को चुनाव किया जाएगा। इसके बाद मतपत्र के जरिए पंच, सरपंच, जनपद व जिला पंचायत सदस्यों का निर्वाचन होगा। वही EVM की कमी के चलते मतपत्रों से जनपद सदस्य, जिला पंचायत सदस्य के चुनाव कराए जाएंगे।

यह भी पढ़ें…जबलपुर नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कालेज की डीन बनी डॉ नीता गुईन

दरअसल राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश के कलेक्टर्स से बातचीत की, स्थानीय निकाय चुनाव कराए जाने को लेकर कलेक्टर्स से उन्होंने तैयारियों पर चर्चा की। बताया जा रहा है कि VC में राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने कलेक्टर्स को सुप्रीम कोर्ट के फैसले के आधार पर 2 हफ्ते के भीतर चुनाव कराने के लिए नोटिफिकेशन जारी किए जाने की जानकारी दी, VC के दौरान उन्होंने कहा कि आयोग चुनाव कराने के लिए पूरी तरह तैयार है। पहले नगरी निकाय या पंचायत चुनाव होंगे, इसकी स्थिति भी नोटिफिकेशन के साथ क्लियर हो जाएगी। आयोग ने कहा है कि पंचायत, जिला और जनपद के चुनाव मतपत्रों के जरिए कराए जाएंगे। इसकी वजह ईवीएम की अनुपलब्धता बताई गई है। आयोग ने कलेक्टरों को निर्देशित किया कि जिलों में चुनाव संबंधी पूरी तैयारी कर चुनाव कार्य के लिए ड्यूटी लगाने का काम करें। आयोग ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट गाइडलाइन के आधार पर तय समय सीमा में चुनाव कराने का काम किया जाएगा।

यह भी पढ़ें… भोपाल : यूथ कांग्रेस के प्रदर्शन में चले वाटर कैनन, भारी पुलिस बल ने रोका यूथ कांग्रेस को आगे बढ़ने से

वही VC में आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने कहा है कि चूंकि नगरीय निकाय में आरक्षण, परिसीमन प्रक्रिया पूरी हो चुकी है और पंचायत चुनाव के लिए परिसीमन हो चुका है लेकिन आरक्षण होना बाकी है। इसलिए नगरीय निकाय चुनाव पहले हो सकते हैं लेकिन आयोग दोनों ही चुनाव कराने को तैयार है। हालांकि वही दूसरी तरफ़ कांग्रेस ने राज्य निर्वाचन आयोग पर भी सवाल खड़े कर दिए, उन्होंने कहा की सरकार के इशारों पर आयोग काम कर रहा है।