बीजेपी MLA को धरने पर बैठाने वाले कलेक्टर की विदाई, CM भी थे नाराज

10 नवंबर 2021 को बीजेपी विधायक राजेश प्रजापति ने छतरपुर कलेक्टर शीलेंद्र सिंह के बंगले के बाहर धरना दिया था, विधायक का आरोंप था कि कलेक्टर मेरी हत्या तक करा सकते हैं उन्होंने मुख्यमंत्री से कलेक्टर को तत्काल हटाने का आग्रह भी किया था

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। रविवार को हुए तीन आईएएस के तबादले सूची में छतरपुर के कलेक्टर शीलेंद्र सिंह का भी नाम है। शीलेंद्र कुछ दिन पहले बीजेपी के विधायक राजेश प्रजापति के साथ विवादों को लेकर चर्चा में आए थे। विधायक ने उनके खिलाफ बंगले के सामने धरना तक दे दिया था।

यह भी पढ़े.. IPS योगेश चौधरी होंगे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के ‘Officer On Special Duty’

लगभग दो साल पहले छतरपुर जिले के कलेक्टर बनाए गए शीलेंद्र सिंह को हटाकर उनके स्थान पर संदीप कुमार की नियुक्ति की गई है। संदीप वर्तमान में जबलपुर में नगर निगम के आयुक्त हैं। 10 नवंबर 2021 को बीजेपी विधायक राजेश प्रजापति ने छतरपुर कलेक्टर शीलेंद्र सिंह के बंगले के बाहर धरना दिया था। उनका आरोप था कि कलेक्टर उन्हें मिलने का समय नहीं दे रहे जबकि जन समस्याओं के लिए वे मिलना चाहते हैं। विधायक ने आरोप लगाया था कि कलेक्टर मेरी हत्या तक करा सकते हैं या झूठे मुकदमों में फंसा सकते हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री से कलेक्टर को तत्काल हटाने का आग्रह भी किया था।

यह भी पढ़े.. MP Transfer : मप्र में IAS अधिकारियों के तबादले, यहाँ देखें लिस्ट

भोपाल से आए दबाव के चलते कलेक्टर ने धरने पर बैठे विधायक से मुलाकात तो की लेकिन सड़क पर खड़े खड़े ही उनको टरका दिया था। इसे लेकर बीजेपी के नेताओं में काफी आक्रोश था। इतना ही नहीं, अविवादित नामांतरणो को लेकर छतरपुर कलेक्टर को पिछली कलेक्टर कमिश्नर कॉन्फ्रेंस में मुख्यमंत्री ने जमकर फटकार लगाई थी और कहा था कि जब अविवादित नामांतरणो को निपटाने की समय सीमा तय है तो फिर यह पेंडिंग क्यों है। माना जा रहा है कि विधायक के प्रति कलेक्टर का रवैया और अविवादित नामांतरण में बरती गई लापरवाही उन्हें भारी पड़ गई और इसीलिए उन्हें हटा दिया गया।