आयोग: डी जी पी सहित भोपाल डी आई जी, महिला एवं बाल विकास विभाग को नोटिस जारी

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने चार मामलों में स्वसंज्ञान लेकर संबंधितों से समय-सीमा में जवाब मांगा है। पहला मामला दस साल के बच्चे को ढाई घंटे तक लाॅकअप में रखने का है। इस मामलें में आयोग ने डीजीपी तीन सप्ताह में जवाब मांगा है।

कांग्रेस को लगा एक और बड़ा झटका, दिग्गज नेता ने दिया पार्टी से इस्तीफा

पूरा मामला यह है, की शिवपुरी जिले के भदैया कुंड (नेशनल पार्क एरिया) में ऋषि पंचमी की पूजा के लिए अपामार्ग का पौधा लेने गए दो युवकों और दस साल के बच्चे को वन विभाग ने सजा दे दी। दोनों युवकों को करीब ढाई घंटे तक लाॅकअप में बंद रखा और बच्चे को भी थाने में बिठाया। इसके बाद 500 रूपए का चालान काटकर तीनों को छोड दिया। उधर रेंजर का कहना है कि मामला नेशलन पार्क में अवैध प्रवेश का था। पार्क एरिया में आम लोगो की एंट्री पूरी तरह से बंद है। इस मामले में संज्ञान लेकर मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने पुलिस महानिदेशक (डीजीपी), मध्यप्रदेश तथा पुलिस अधीक्षक, शिवपुरी से तीन सप्ताह में जवाब मांगा है।

सिंधिया के रोड शो के खिलाफ कांग्रेस की सड़क पर उतरने की तैयारी , बनाई रणनीति

वही दूसरा मामला भी शिवपुरी जिले का है जहां पिछोर में भौंती कस्बा क्षेत्र के ऊमरी गांव के तीन साल तीन माह के बच्चे का वजन उम्र के हिसाब से आधा है। हालत ऐसी हो गई है कि उसके शरीर की हड्डियां तक दिखने लगी हैं। तीन साल के बच्चे का वजन 14.6 किग्रा होना चाहिए, लेकिन बच्चे (सूर्यवंशी बघेल) का वजन 7.2 किग्रा है। उसका वजन लगातार घटता जा रहा है। अपने इकलौते बेटे का इलाज कराने माता-पिता जिला अस्पताल शिवपुरी लाए है। चिल्ड्रन वार्ड में भर्ती सूर्यवंशी बघेल को ढंग का पोषण आहार नही मिल रहा है। नौ सितंबर की रात दो बजे जिला अस्पताल शिवपुरी में भर्ती हुए सूर्यवंशी की हालत में कोई सुधार नही है। इस मामले में संज्ञान लेकर मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने संचालक, महिला एवं बाल विकास विभाग, जिला कार्यक्रम अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग, शिवपुरी तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, शिवपुरी से तीन सप्ताह में जवाब मांगा है।

MP Weather: मप्र के 19 जिलों में अति भारी बारिश की चेतावनी, रेड-ऑरेंज अलर्ट

वही तीसरा मामला भोपाल शहर में पत्नी के लापता होने पर खोज के लिए सीएम हेल्पलाइन से मदद मांगने वाले युवक का है। जिसमें अरेरा हिल्स पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाया है। युवक जेपी अस्पताल में भर्ती है। राहुल प्रजापति ने आरोप लगाया है कि उसे बयान दर्ज करने के नाम पर बुलाया था, लेकिन प्रधान आरक्षक ने उससेे मारपीट की। पुलिस वाले सीएम हेल्प लाइन में शिकायत दर्ज करने से नाराज थो और उन्होनें युवक के साथ मारपीट कर दी। थाना प्रभारी का कहना है कि युवक का विवाद हो गया था, लेकिन मारपीट नहीं हुई। इस मामले में संज्ञान लेकर मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने उप पुलिस महानिरीक्षक (डीआईजी), भोपाल से तीन सप्ताह में जवाब मांगा है।

अब एक और सीएम बदलने की सुगबुगाहट ! दिल्ली बुलाए गए

वही एक और मामलें में अलीराजपुर जिले में महिलाओं पर हो रहे अत्याचार का एक और वीडियों सामने आया है। पति अपने दो दोस्तों और माता-पिता के साथ मिलकर पत्नी की डंडे से पिटाई कर रहा है। मां भी बेटे को बहू की पिटाई करने के लिए उकसा रही है। वीडियो सामने आने के बाद पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। मामला सोंडवा थाना क्षेत्र की उमराली चैकी के ग्राम छोटी बेगलगांव का है। राजू (परिवर्तित नाम) ने अपनी पत्नी को बीते शुक्रवार को अन्य युवक के साथ मिलकर पत्नी की पिटाई शुरू कर दी। एसपी ने बताया कि पुलिस ने वीडियो के आधार पर महिला के पति, ससुर, सास, पति के दोस्त राकेश और प्रशांत झिंगला को गिरफ्तार किया है। इस मामले में संज्ञान लेकर मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने पुलिस अधीक्षक, अलीराजपुर से चार सप्ताह में जवाब मांगा है।