कंम्प्यूटर बाबा का वार- BJP सरकार में हुआ संतों का अपमान, इसीलिए चुनाव में जनता ने उखाड़ फेंका

Computer-Baba's-said-Insults-the-Saints-in-BJP-Government

भोपाल।

सोमवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ के शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचे कंप्यूटर बाबा ने शिवराज सरकार पर जमकर हमला बोला। बाबा ने कहा कि  नर्मदा मैया और गौमाता के साथ धोखा करने वाले लोगों को जनता ने उखाड़ फेंका है। भाजपा सरकार में साधु-संतों को बहुत अपमान किया गया, इसलिए हार मिलीं। नर्मदा में होने वाले अवैध खनन को रोकने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे।  हालाांकि इस दौरान शिवराज सिंह चौहान मंच पर मौजूद नही थे। 

दरअसल, सोमवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ के शपथग्रहण समारोह में दिग्गज नेताओं-मंत्रियों के साथ साथ साधु संतों को भी आमंत्रित किया गया था। बड़ी संख्या में साधु-संत वहां पहुंचे थे, उनके लिए अलग से मंच भी बनाया गया था।इनमें शिवराज सरकार की खिलाफ मोर्चा खोलने वाले कंप्यूटर बाबा भी मौजूद रहे । इस दौरान जब उन्हें अन्य पंडितों साधुओं के साथ मंत्र पढ़ने को कहा गया तो उन्होंने भाषण देना शुरू कर दिया और शिवराज सरकार पर जमकर हमला बोला। कंप्यूटर बाबा ने कहा कि नर्मदा मैया और गोमाता के साथ धोखा करने वाले लोगों को जनता ने उखाड़ फेंका है। 

भाजपा सरकार में संतों का अपमान हुआ है, इसीलिए उसे चुनाव में हार का सामना करना पड़ा है।  पूरा संत समाज कांग्रेस के साथ है। हालांकि इस दौरान शिवराज सिंह चौहान मंच पर मौजूद नहीं थे।इसके बाद साधु-संतों ने एक के बाद एक भाजपा पर हमले करना शुरु कर दिए, विवाद को बढ़ता देख कांग्रेस नेताओं ने उन्हें ऐसा करने से मना किया। कई और संत भाषण देना चाहते थे, लेकिन कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी और अन्य नेताओं ने संतों को भाषण देने से मना किया। संत फिर भी नहीं माने तो वहां का माइक बंद करना पड़ा। 

मोदी सरकार पर निशाना साधा

 इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी उन्होंने जमकर निशाना साधा।  बाबा ने कहा कि मोदी सरकार राम मंदिर पर 30 जनवरी तक फैसला ले। अगर केंद्र सरकार कोई निर्णय नहीं लेती है तो तय समय सीमा के बाद दिल्ली के तालकटोरा मैदान में एक लाख से ज्यादा साधु संत सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे। इसके लिए योजना बनाई जा रही है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से मध्यप्रदेश में भाजपा सरकार के खिलाफ साधु संतों ने मोर्चा खोला था ठीक वैसे ही केंद्र सरकार के खिलाफ भी करेंगे। 

अवैध उत्खनन करने वाले एक महिने में होंगें सलाखों के पीछे

दरअसल,कम्प्यूटर बाबा आज कमलनाथ के शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचने वाले है,उनके साथ कई साधु संत भी इस समारोह में शामिल होंगें। इससे पहले मीडिया से चर्चा के दौरान उन्होंने ऐलान किया कि कमलनाथ के सीएम बनते ही नर्मदा के अवैध उत्खनन करने वाले मास्टरमाइंड लोगों को महीने भर के अंदर सलाखों के पीछे पहुंचाए। इस दौरान बाबा ने कमलनाथ पर भरोसा जताया ।इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा के खिलाफ उनकी लड़ाई जारी रहेगी। लोकसभा में भी वे भाजपा के खिलाफ इसी तरह से प्रचार करेंगें।भाजपा की हार का कारण सन्तो की नाराजगी है और इसी के चलते ही शिवराज सत्ता से बाहर हुए ।वही उन्होंने पीएम मोदी को धमकी देते हुए कहा कि  अगर जनवरी तक मोदी सरकार ने अयोध्या में राम मंदिर नहीं बनवाया तो संतों ने जो हाल शिवराज सिंह चौहान सरकार का किया, उससे भी बुरा हाल लोकसभा चुनाव के दौरान केंद्र सरकार का होगा।

बता दे कि सारे साल शिवराज सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले कंम्प्यूटर बाबा वोटिंग के पहले कांग्रेस के समर्थन में उतर आए थे। अब उन्होंने कांग्रेस के भावी मुख्यमंत्री कमलनाथ पर भरोसा जताया है कि उनके सरकार आते ही अवैध उत्खनन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी शिवराज सरकार में उन्हें राज्यमंत्री का भी दर्जा दिया गया था,हालांकि उन्होंने नारजगी के चलते पद को त्याग दिया था। इसके बाद से ही वे बीजेपी और शिवराज के खिलाफ मोर्चा खोले हुए है। अब लोकसभा चुनाव के समय भी वे विरोध करने की तैयारी में है।ऐसे में बाबा फिर बीजेपी के लिए चुनौती बनने वाले है।