Congress-candidate's-sunita-patel-promise-Will-not-do-corruption-after-won-election

भोपाल। मप्र विधानसभा चुनाव अब रोचक मोड़ पर आ चुका है| चुनावी मैदान में ताल ठोक रहे प्रत्याशी जनता से बड़े बड़े वादे कर रहे हैं, और जनता से मौक़ा मांग रहे हैं| वहीं मैदान में एक प्रत्याशी ऐसा भी है जिनके द्वारा चुनाव जीतने के बाद भ्रष्टाचार न करने की कसम खाई जा रही हैं| यह प्रत्याशी कांग्रेस की विधायक सुनीता पटेल है जिन्होंने बकायदा शपथ पत्र पर लिखकर दिया है कि चुनाव जीतकर यदि वे विधायक बनी तो वे और उनका पूरा परिवार न तो भ्रष्टाचार करेगा और न ही अवैध रेत खनन व ऐसे अन्य असंवैधानिक कार्यों में लिप्त रहेगा। सुनीता पहली प्रत्याशी हैं जिन्होंने शपथ पत्र के जरिए राजनीति में स्वच्छता का वचन दिया है। 

नरसिंहपुर जिले की गाडरवारा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी बनाई गईं सुनीता पटेल के बारे में जान लें कि सुनीता ने पिछली बार भी कांग्रेस से टिकट मांगा था, लेकिन टिकट नहीं मिला तो वे निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ीं, उन्हें 36 हजार वोट मिले और कांग्रेस प्रत्याशी तीसरे नंबर पर रहा। सुनीता की लोकप्रियता का अंदाज इसी बात से लगता है कि कांग्रेस ने इस बार उन्हें प्रत्याशी घोषित किया है। जिस नरसिंहपुर जिले से सुनीता चुनाव लड़ रही हैं वहां के नेताओं पर अवैध खनन, अवैध शराब व्यापार और अनेक गैर कानूनी कामों से करोड़ों रुपया कमाने के आरोप हैं। इन आरोपों से बचने के लिए ही सुनीता ने जनता के बीच पचास रुपए के स्टाम्प पेपर पर शपथ पत्र प्रस्तुत किया है। इस शपथ पत्र को नोटराईज भी कराया गया है। इसे सभी मतदाताओं को सोशल मीडिया के जरिए भेजा जा रहा है। 

यह ली है शपथ 

सुनीता ने अपने शपथ पत्र में कुल सात शपथ ली हैं। 

पहली-मैंने सदैव सभी समाज एवं वर्गों का सम्मान किया है एवं सदैव करूंगी। मैं आपको विश्वास दिलाती हूं कि मैं हमेशा न्याय के साथ रहूंगी एवं अन्याय के खिलाफ रहूंगी।  

दूसरी-प्रशासनिक एवं राजनीतिक संरक्षित व्यापार जैसे अवैध रेत उत्खनन एवं अन्य असंवैधानिक कार्यों मैं और मेरा परिवार का कोई सदस्य संलग्न नहीं रहेगा। 

तीसरा-भ्रष्टाचार रहित राजनीतिक जीवन की परम्पराओं को आगे बढ़ात ेहुए कभी भी किसी प्रकार का भ्रष्टाचार नहीं करूंगी एवं विधानसभा क्षेत्र में व्याप्त भ्रष्टाचार को पूर्ण रूप से बंद कराऊंगी। 

चार-विधानसभा क्षेत्र में किसी भी गांव में यदि किसी भी प्रकार का कोई विवाद निर्मित होता है जिसकी सूचना मुझ तक आवेगी तो संबंधित गांव के प्रबुद्धजनों के परामर्श के उपरांत ही पटाक्षेप कराने का न्याय उचित प्रयास करूंगी। 

पांच-महिलाओं पर हो रहे अत्याचार एवं उत्पीडऩ को रोकने एवं उनके सम्मान, स्वाभिमान की रक्षा हेतु सदैव तत्पर रहूंगी। 

छह-गांव-गांव चल रहे जुओं,सट्टा एवं शराब के अवैध व्यापार पर प्रतिबंध लगवाकर हर गांव में शांतिपूर्ण माहौल बनवाऊंगी।

सातवां-वर्तमान में व्यापारिक क्षेत्र एवं आम जनों में जो भय एवं गुण्डागर्दी का माहौल है उस क्षेत्र को मुक्त कर शांति का वातावरण स्थापित करूंगी।