मंत्रिमंडल: सिंधिया के Tweet पर कांग्रेस का पलटवार, कहा-दुर्योधन को भी यही लगता था

भोपाल।

शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार के होते ही विपक्ष ने मुख्यमंत्री शिवराज और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Chief Minister Shivraj and Rajya Sabha MP Jyotiraditya Scindia) को घेरना शुरु कर दिया है।सोशल मीडिया (social Media) से लेकर सड़क तक कांग्रेस द्वारा हमले बोले जा रहे है। खास करके विपक्ष द्वारा पूर्व विधायको को शामिल करने के चलते वरिष्ठ विधायकों की मंत्रिमंडल में की गई अनदेखी को मुद्दा बनाया जा रहा है।इतना ही नही पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी (Former minister and Congress MLA Jeetu Patwari) ने तो सिंधिया के ट्वीट अन्याय के खिलाफ़ छेड़ा गया संघर्ष ही धर्म है पर रिट्वीट करके लिखा है कि विश्वासघात सबसे बड़ा अधर्म है, जिन्होंने वर्षो जनता का शोषण और अन्याय किया, उन्हें अन्याय को समझाने का अधिकार नही।

जीतू ने ट्वीट कर लिखा है कि अवसरवादियों की भीड़ के कारण राजेंद्र शुक्ला, संजय पाठक, पारस जैन, सुरेंद्र पटवा, गौरीशंकर बीसेन, रामपाल सिंह, जालम सिंह पटेल अब समझ गए होंगे की जब जयचंदों को पार्टी में लाया जाता है तो निष्ठावान कैसे किनारे हो जाते।पद चुनाव आते जाते हैं राजनीतिक मर्यादा की ज़िम्मेवारी सबकी है।मध्यप्रदेशकी जनता के जनादेश के पीठ में वार करना अन्याय है मध्यप्रदेश की जनता और congress कार्यकर्ता संघर्ष के लिए तैयार हैं जीत जनता की होगी ।विश्वासघात सबसे बड़ा अधर्म है।।।जिन्होंने वर्षो जनता का शोषण और अन्याय किया…उन्हें अन्याय को समझाने का अधिकार नही।।।

कांग्रेस विधायक ने भी सिंधिया पर किया पलटवार
सिंधिया के ट्वीट पर कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी ने भी रिट्वीट किया है। चौधरी ने लिखा है कि दुर्योधन को भी यही लगता था। चौधरी ने आगे लिखा है कि 206 निर्वाचित सदस्य लेकिन अघोषित,बर्खास्त और गैर विधायकों का मंत्रिमंडल में बाहुल्य लोकतंत्र के मुंह पर कालिख पोतने जैसा है। भारत के लोकतांत्रिक इतिहास के सबसे अलोकतांत्रिक और अवैधानिक मंत्रिमंडल का मध्यप्रदेश में बनना शर्मनाक है। आखिरी ट्वीट मे चौधरी ने शिवराज पर हमला बोलते हुए लिखा है कि ऐसा कोई सगा नहीं जिसे @ChouhanShivraj ने ठगा नहीं; अपनी “कुर्सी” बचाने के लिए 35 करोड़ में बिके जयचंदों को मंत्रिपद दे दिया और अपने राजेंद्र शुक्ला, रामपाल सिंह, सुरेंद्र पटवा, संजय पाठक (फेहरिस्त लंबी है) जैसे समर्थकों को घर बैठा दिया। #MadhyaPradesh #CabinetExpansion

पूर्व मंत्री और एमपी कांग्रेस भी हुई हमलावर

एमपी कांग्रेस ने ट्वीट कर लिखा है कि लोकतंत्र के इतिहास में पहली बार 12 ग़ैर-विधायकों को मंत्री बनाया गया..!संवैधानिक लोकतंत्र है- —जनता का, जनता के लिए और जनता द्वारा शासन..!शिवराज का लोकतंत्र-—ग़द्दारों का, सत्ताभूख मिटाने के लिये, ख़रीद-फ़रोख़्त द्वारा शासन..! पूरा देश लोकतंत्र के चीरहरण पर शर्मिदा है।पूर्व मंत्रियों ने भी शिवराज-महाराज पर तंज कसा है। सज्जन सिंह वर्मा ने ट्वीट कर लिखा है कि मप्र में 100 दिन बाद ऐसे अवसरवादी लोगों का मंत्रिमंडल बना है जिन्हें जनता के हितों से कोई सरोकार नही है। ये केवल ख़ज़ाने से लूटपाट करने के उद्देश्य से आये हैं। जनता इन पर कड़ी नज़र रखे।