भाजपा के ‘विभीषणों’ पर कांग्रेस को भरोसा

congress-faith-on-controversial-leaders-of-bjp-

भोपाल। लोकसभा चुनाव में भाजपा के दो नेता कांग्रेस का चुनाव प्रचार करते दिखाई दे रहे हैं, जो कुछ महीने पहले तक पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के करीबी रहे हैं। ये दोनों ही नेता किरार-धाकड़ समाज से हैं। इनमें एक नेता को कांग्रेस ने स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल किया है। 

���िरार-धाकड़ समाज की राष्ट्रीय अध्यक्षा श्रीमती साधना सिंह चौहान के भाई संजय सिंह मसानी विधानसभा के दौरान कांग्रेस में शामिल हुए थे और बालाघाट की वारासिवनी सीट से भाजपा के खिलाफ चुनाव भी लड़े। वे अब मुख्यमंत्री कमलनाथ एवं उनके बेटे नकुलनाथ के लिए वोट मांग रहे हैं। वे पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर राजनीतिक आरोप लगाने से भी पीछे नहीं हट रहे हैं। 

वहीं इधर मप्र पिछड़ा वर्ग आयोग के पूर्व सदस्य एवं किरार-धाकड़ समाज के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ गुलाब सिंह किरार कांगे्रस के स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल हो गए हैं। खास बात यह है कि सत्ता में आने से पहले तक कांग्रेस गुलाब सिंह किरार को व्यापमं घोटाले का आरोपी बताकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की घेराबंदी करती रही है। विधानसभा चुनाव के दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया ने किरार को कांग्रेस में शामिल कराया, लेकिन पार्टी में अंदरूनी विवाद के चलते किरार को चुनाव में कोई जिम्मेदारी नहीं सौंपी गई। अब लोकसभा चुनाव में वे स्टार प्रचारक बनाए गए हैं। जो ग्वालियर, मुरैना, भिंड, गुना, राजगढ़, भोपाल लोकसभा क्षेत्र में कांग्रेस के लिए किरार समाज के वोट मांगेंगे। दिग्विजय सिंह से जुड़े मप्र कांगे्रस के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि किरार को स्टार प्रचारक नहीं बनाना चाहिए।  चूंकि यह फैसला ज्योतिरादित्य सिंधिया का है, इसलिए पार्टी में खुलकर किरार का विरोध नहीं हो रहा है। 

नकली मामा का असली साला: नकुल

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साले संजय सिंह मसानी अब मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबी हैं। वे उनके बेटे नकुलनाथ के साथ चुनाव प्रचार कर रहे हैं। एक सभा में नकुल ने कहा कि नकली मामा के असली साले मेले साथ हैं।