कमलनाथ के इस कदम से प्रदेश की सियासत में मचा घमासान

भोपाल। मुयमंत्री कमलनाथ हनुमान भक्त हैं, इसके लिए किसी के प्रमाण की जरूरत नहीं है। उन्होंने छिंदवाड़ा से पन्द्रह किमी दूर सिमरिया में 101 फीट ऊंची हनुमान प्रतिमा की स्थापना कराई वहीं इंदौर के पास सनवदिया में राम मंदिर के निर्माण का काम शुरू हो गया है। एक करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले इस मंदिर में स्थानीय लोगों के अलावा सरकार का आध्यात्म विभाग भी सहयोग करेगा। कमलनाथ ने गांधीजी की पुण्य तिथि पर पंडित विजय शंकर मेहता की उपस्थिति में आयोजित हमारे हनुमान सांस्कृतिक मंच भोपाल द्वारा हनुमान चालीसा के सवा करोड़ जप कार्यक्रम से प्रदेश के सियासी जगत में हलचल मच गया है।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह का कहना है कि किसी भी धार्मिक आयोजन से कोई तकलीफ नहीं है लेकिन कांग्रेस के यही लोग सुप्रीम कोर्ट में भगवान राम को काल्पनिक बताते हैं, अगर यही हनुमान चालीसा का पाठ करने लगें तो आश्चर्य होता है। कांग्रेस के ये नेता एक तरफ अल्पसंयकों को भडक़ाते हैं तो दूसरी तरफ हनुमान चालीसा जैसे आयोजनों से बहुसंयक लोगों को साधने की कोशिश करते हैं। कमलनाथ और राकेश सिंह के बीच इसको लेकर वार पलटवार हुए।

कमलनाथ ने पलटवार करते हुए राकेश सिंह के बारे में कहा कि उनका मुंह पहले चलता है और दिमाग बाद में चलता है। हम मंदिर जाते हैं, धार्मिक आस्थाओं पर बात करते हैं तो भाजपा नेताओं के पेट में दर्द क्यों होता है, क्या उन्होंने धर्म की एजेंसी ले रखी है या ठेकेदार हो गए हैं। हम धर्म को राजनीति से नहीं जोड़ते जबकि वे धर्म के नाम पर राजनीति करते हैं। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने जवाब में कहा कि मैं आभारी हूं, आपने माना कि पहले मेरी जुबान चलती है और बाद में मेरा मस्तिष्क चलता है, लेकिन मैं कहना चाहूंगा कि प्रदेश की जनता कह रही है कि कमलनाथजी आपकी केवल जुबान चलती है, अगर दिमाग चलता तो कर्जमाफी व बेरोजगारी भत्त देने का झूठ नहीं बोलते।