‘हेमा मालिनी के चक्कर में हार गया था, नहीं तो आज कैबिनेट मंत्री होता’

congress-mla-babulal-jandel-says-in-2003-election-lost-due-to-hema-malini-

भोपाल। ‘हेमा मालिनी के चक्कर में हार गया नहीं तो आज में कैबिनेट मंत्री होता’, यह कहना है कांग्रेस पार्टी के विधायक बाबू लाल जंडेल का| कांग्रेस विधायक का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है, जिसमे वह कहते सुनाई दे रहे हैं कि ‘हेमा मालिनी मुझे 2003 में हरा गईं, वह दुर्गालाल जी के प्रचार में आई थी, मैं तो हेमा मालिनी के चक्कर में हार गया था| नहीं तो कैबिनेट में मंत्री होता’| यह वायरल वीडियो किसी विद्यालय में आयोजित कार्यक्रम का बताया जा रहा है| 

विधायक ने हेमा मालिनी को याद कर फिल्म ‘क्रांति’ का गाना ‘जिंदगी की ना टूटे लड़ी, प्यार कर लो घड़ी दो घड़ी’ भी गाया | यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है| वायरल वीडियो में विधायक गाने के अंत में लोगों को नसीहत देते हुए ‘जय चोपना’ कहते सुनाई दिए| वीडियो में विधायक स्टेज पर खड़े हुए हैं और गाना भी गा रहे हैं, वहीं लोग तालियों से विधायक की बात का स्वागत कर रहे हैं| एक टीवी चैनल पर उन्होंने वायरल वीडियो को लेकर कहा कि वो 26 जनवरी को एक स्कूल में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में शामिल होने गए थे| जंडेल ने कहा कि श्योपुर में 2003 में जब चुनाव लड़ा था तब बीजेपी की स्टार प्रचारक हेमा मालिनी श्योपुर में प्रचार के लिए आईं थी. और मैं चुनाव हारा था, तब मैं दूसरे नंबर पर रहा था|

बता दें कि बाबूलाल जंडेल बसपा छोड़कर कांग्रेस में आये हैं| वह बसपा से तीन बार चुनाव हार चुके हैं| बाबूलाल जंडेल ढाई साल पहले दिल्ली जाकर राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के सामने कांग्रेस में शामिल हुए थे। उन्हें साल 2003, 2008 व 2013 के चुनाव में हार मिली थी। जंडेल 2003 में भाजपा के दुर्गालाल विजय से करीब ढाई हजार मतों से चुनाव हारे। दुर्गालाल विजय से ही वे 2013 में करीब 15 हजार मतों से चुनाव हार गए थे। 2008 में उन्हें कांग्रेस के बृजराज सिंह चौहान से हार मिली थीं। बसपा छोड़कर बाबूलाल जंडेल करीब ढाई साल पहले कांग्रेस में शामिल हुए थे। उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के सामने कांग्रेस की सदस्यता ली थी। राहुल गांधी ने कांग्रेस की सदस्यता दिलाने के बाद बाबूलाल जंडेल को टिकट देने का भरोसा दिया था। जिसके बाद वह हाल ही में सम्पन्न हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़े और जीते भी|