कांग्रेस ने सिंधिया पर कसा तंज

भोपाल। सत्ता की लोलुपता में ‘दगाराज विभीषण’ ने अपने लोभियों को साथ लेकर रामराज्य की अवधारणा से ही छल कर दिया है । स्वर्ण की लंका का आकर्षण विभीषण के सिर चढ़कर ऐसा बोला कि उसके लोभियों ने जनता के प्रजातंत्रीय निर्णय की ही सौदेबाजी कर ली।

कांग्रेस ने सिंधिया को कटघरे में लेते हुए आरोप लगाया है कि सत्ता के लालच में वो और उनके समर्थकों ने जनता के साथ छल किया है। आपको याद दिला दें कि सिंधिया के बीजेपी में शामिल होने के बाद जब वो पहली बार भोपाल आए तो शिवराज ने उनके लिये विभीषण का उदाहरण दिया था। अब उसी विभीषण का नाम लेकर कांग्रेस ने सिंधिया पर कटाक्ष किया है। कांग्रेस ने कहा कि आज तक वोट के बदले नोट तो सुना था मगर दगाराज के लोभियों ने जनता के वोट प्रलोभियों को करोड़ों में बेच दिए। अब वे जनसेवा की काठ की कठोर कुर्सियाँ छोड़ नोटों के मखमली सिंहासन पर बैठेंगे। अब दगाराज विभीषण प्रलोभियों की पार्टी के टिकिट पर भावुक भाषणों के सहारे फ़िर अपने लोभियों की चुनावी नैया पार लगाने की कोशिश करेगा ।

विभीषण के किरदार को दगाबाज बताते हुए उसने कहा कि वो अब दागदार है। उसकी नीयत में नैतिकता नहीं दिखाई देती। उसकी सेवा मूल्यों पर नहीं, मोलभाव पर आधारित है। अब वो सत्ता का सौदेबाज सारी मर्यादाएं लाँघकर लंका की पैरोकारी कर रहा है और रामराज्य के खिलाफ़ खड़ा है। अब सच्चाई जगजाहिर है और छली गई जनता सही समय की प्रतीक्षा में है । वो लंकाइयों ,लोभियों और दगाराज विभीषण की सत्ता को उखाड़ कर पुनः राम राज्य स्थापित करेगी। इस तरह कांग्रेस ने कहा है कि जनता एक बार फिर लोभियों के खिलाफ उनके पक्ष में फैसला देगी।