भारत का संविधान देता है सबको समान अधिकार : पाठक

भोपाल। हमारे देश का संविधान धर्म, जाति, लिंग का भेद किए बिना सभी को समान अधिकार देता है। धार्मिक या भाषाइ तौर पर जो कम संख्या में हैं, उन्हें भी वे सभी अधिकार प्राप्त हैं, जो बहुसंख्यकों के लिए मौजूद हैं। 

राज्य अल्पसंख्यक आयोग द्वारा गुरूवार को आयोजित अंतराष्ट्रीय अल्पसंख्यक दिवस के मौके पर यह बात कही गई। अल्पसंख्यकों के संवैधानिक अधिकार विषय पर कार्यक्रम के मुख्य वक्ता वरिष्ठ पत्रकार पंकज पाठक ने कहा कि हमारे देश का कानून दुनिया के हर कानून से बेहतर है और यही हमारे देश की विशेषता है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विशिष्ट अतिथि जरगाम हैदर ने सच्चर कमेटी के हवाले से कहा कि मुस्लिम समुदाय की स्थिति की बेहतरी के लिए ठोस कोशिशों की जरूरत है। उन्होंने कहा कि शिक्षा ही ऐसा माध्यम है, जिसके जरिये सभी अल्पसंख्यक समुदाय अपनी सामाजिक और आर्थिक स्थिति में सुधार ला सकते हैं। इस मौके पर आयोग अध्यक्ष नियाज मोहम्मद खान ने कहा कि भारत की संस्कृति और प्रकृति समन्वय-सामन्जस्य की है। समता, समरसता और सद्भाव भारतीय संविधान की मूल भावना है। उन्होंने कहा कि आदर्श शासन वही होता है, जिसमें मुल्क के अल्पसंख्यक समुदाय सुरक्षित और खुशहाल रहें।

कई को मिला सम्मान

कार्यक्रम के दौरान आयोग ने कई ऐसे लोगों को सम्मानित किया, जिन्होंने साम्प्रदायिक सौहाद्र्र के लिए अनुकरणीय काम किए हैं। इनमेंं रतलाम पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी, भोपाल के सरदार ज्ञानी दलीप सिंह, मंदसौर के युनुस शेख का प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मान किया गया। इस मौके पर अल्पसंख्यक कल्याण के क्षेत्र में उत्कृष्ठ काम करने के लिए सलीम मेव, सौरभ भंडारी रतलाम, राजशेखर टीकमगढ़, एडवोकेट अल्ताफ कुरैशी खंडवा, बदरुन्निसा भोपाल को सम्मानित किया गया। इसके अलावा सामाजिक सरोकार और जन कल्याण के लिए तत्पर रहने वाले सरदार खां, मोहम्मद सलीम, मोहम्मद अयान, रिचर्ड जेम्स, मोहम्मद मुशर्रफ कुरैशी, मोहम्मद रफीक कुरैशी आदि को भी सम्मान से नवाजा गया।