फिल्म “सत्यनारायण की कथा” को लेकर विवाद, संस्कृति बचाओ मंच ने की FIR दर्ज करने की मांग

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। निर्माता साजिद नाडियाडवाला की आने वाली फिल्म “सत्यनारायण की कथा” विवादों के घेरे में आ गई है। भोपाल में संस्कृति बचाओ मंच ने फिल्म के विरोध में झंडा उठा लिया है और मांग की है कि इसका नाम बदला जाए। इसे लेकर उन्होने शहर के अलग अलग थानों में ज्ञापन सौंपा और साजिद नाडियावाला के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज की मांग की।

स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी के गृह जिले में नर्सेस हड़ताल पर, 12 सूत्रीय मांगों को लेकर जताया विरोध प्रदर्शन

संस्कृति बचाओ मंच के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रशेखर तिवारी ने कहा कि शनिवार को उन्होने प्रमुख रूप से टीटी नगर, अरेरा हिल्स, जहांगीराबाद, महाराणा प्रताप नगर, हबीब गंज, कोलार, कमला नगर, कोहेफिजा आदि कई थानों में साजिद नाडियावाला के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज करने को लेकर ज्ञापन सौंपा है। इसी के साथ वो सांसद प्रज्ञा भारती और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को भी ज्ञापन सौंपेंगे। मंच का कहना है कि पिछले कुछ वर्षों से फिल्मों में हिंदू देवी देवताओं को अपमानित करने का प्रयास किया जा रहा है। चाहे फिल्म ओ माय गॉड हो, पीके, लवरात्रि, तांडव और अब सत्यनारायण कथा..इस प्रकार की फिल्मों का निर्माण करके हमारी हिंदू जन भावनाओं को ठेस पहुंचाने का जो प्रयास किया जा रहा है उसे संस्कृति बचाओ मंच कतई बर्दाश्त नहीं करेगा।

संस्कृति बचाओ मंच ने चेतावनी दी है कि साजिद नाडियावाला अगर मध्य प्रदेश में आएं तो उनका मुंह काला करके उसे गधे पर बैठाकर घुमाया जाएगा। ज्ञापन देने वालों में प्रमुख रूप से चंद्रशेखर तिवारी प्रदेश अध्यक्ष, अजय मिश्रा संगठन महामंत्री, विकास बाजपेई संभाग संयोजक, जिला अध्यक्ष अजय दिसोरिया, रूद्र त्रिपाठी युवा प्रमुख, जहांगीराबाद संयोजक मनोज प्रजापति, रंजीत मांझी, दिगंबर झोपे, उमेश नागले और विजय मालवीय शामिल रहे।