किसानों के नाम पर BJP नेताओं ने साठ-गांठ कर किया 200 करोड़ का घोटाला : गोविंद सिंह

-cooperative-minister-Govind-Singh-statement-on-bjp-for-

भोपाल।

बीजेपी द्वारा बार-बार किसान ऋण मुक्ति योजना पर सवाल उठाए जाने पर सहकारिता मंत्री गोविंद सिंह ने बड़ा बयान दिया है।गोविंद सिंह ने कहा कि 2007 में बीजेपी सरकार में किसान ऋण मुक्ति हुई थी, तब भी फर्जी तरीके से बीजेपी नेताओं ने जिला केंद्रीय बैंकों में अधिकारियों से साठ-गांठ कर करीब 200 करोड़ का घोटाला किया था। इसलिए हमारी सरकार किसान ऋण का फर्जीवाड़ा रोकने के लिए ही तीन तरह फार्म भरवा जा रही है। कई जिलों में किसानो के नाम पर फर्जी ऋण निकाल कर दबंगों द्वारा ब्याज पर पैसा चलाया जा रहा था, उन पर भी सख्त कार्यवाही की जाएगी।जरूरत पड़ी तो कानून में संशोधन भी किया जाएगा, लेकिन किसानों को कोई परेशानी नही आने देंगें।इस दौरान उन्होंने बीजेपी पर भी जमकर निशाना साधा।

गोविंद सिंह का कहना है कि बड़े पैमाने पर किसान ऋण मुक्ति योजना में गड़बड़ी हुई है। कई जगह ऐसी है, जहां ऋण नहीं लिए जाने के बावजूद भी बैंक लिस्ट में ऋण माफी के नाम आए हैं। ऐसी भी शिकायतें मिली है, जहां किसानों के अंगूठे लगवाकर ऋण लिया जा रहा है और ब्याज पर पैसे चलाया जा रहे है। वहीं मंत्री गोविंद सिंह ने बीजेपी पर निशाना साधा है और कहा कि 2007 में बीजेपी सरकार में किसान ऋण मुक्ति हुई थी, तब भी फर्जी तरीके से बीजेपी नेताओं ने जिला केंद्रीय बैंकों में अधिकारियों से साठ-गांठ कर करीब 200 करोड़ का घोटाला किया था।वही कांग्रेस सरकार के आने के बाद में आ रही गड़बड़ियों पर उन्होंने कहा कि अभी फिर से गड़बड़ी की शिकायत मिली है, पूरे मामले की प्रदेशभर से स्थिति आने के बाद दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी, नियमों में संशोधन करना पड़े तो भी करेंगे ताकि गड़बड़ी रोकी जाये।

वही प्रियदर्शनी राजे के चुनाव लड़ने पर मंत्री गोविंद ने कहा कि इस बारे में मुझे कोई जानकारी नही है. इस मामले में जनता से राय ली जाएगी, इसके बाद फैसला किया जाएगा।इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रो की सासोसाइटी पर सहकारिता मंत्री गोविंद सिंह ने कहा कि सोसाइटियों की व्यवस्था में सुधार किया जाएगा ।साल भर के खर्चों पर और भर्ती पर भी ध्यान दिया जाएगा, ताकि सोसाइटी में मनमानी ना हो। सोसाइटी घाटे से उभरने के लिए कैडर का  निर्माण किया जाएगा।