मध्‍य प्रदेश में सातों दिन होगा कोविड वैक्सीनेशन, सरकार का लक्ष्य, प्रदेश में शत-प्रतिशत टीकाकरण दिसंबर तक

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना से निपटने प्रदेश की सरकार तो सतर्क है लेकिन क्या आप भी अलर्ट है कोरोना से खुद को बचाने, अगर नही तो हो जाइए, क्योंकि कोरोना ने एक बार फिर पैर पसारना शुरू कर दिया है। हाल ही में कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद एक बार फिर सरकार ने लोगो से अपील की है कि कोरोना से बचाव के लिए लोग वैक्सीन लगवाए, इसी के तहत सरकार ने लक्ष्य तय किया है। प्रदेश के शत-प्रतिशत लक्षित व्यक्तियों को दिसम्बर माह अंत तक कोविड-19 वैक्सीन की दोनों डोज लगा दी जाए। इसके लिये रणनीति बनाई गई है। सप्ताह के सातों दिन कोविड-19 टीकाकरण केन्द्र पर टीकाकरण किया जा रहा है। कोविड टीकाकरण महा-अभियान 10, 17, 24 नवम्बर और 4 दिसम्बर को संचालित किया जायेगा।

दिवाली के मौके पर पूरी दुनिया में छाई भारत की चमक, कोवैक्सिन को मिली WHO की आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी

इसके साथ ही कोरोना वैक्सीन से शेष रहे लोगों और दूसरी डोज से शेष रहे लोगों को चिन्हित कर उन्हें टीकाकरण केन्द्र तक पहुँचाने और उनका टीकाकरण सुनिश्चित कराने के लिये सभी विभागों के अधिकारी-कर्मचारियों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। प्रदेश में कोरोना वैक्सीनेशन के लिये किये गये नवाचारों को देखते हुए शत-प्रतिशत व्यक्तियों का टीकाकरण करवाने में कारगर नवाचार और रणनीति को अपनाने के लिये भी कहा गया। सरकार की तरफ़ से तैयार की गई रणनीति में अब सभी विभागों के अधिकारी-कर्मचारियों को निर्देश दिए गए है की ऐसे लोगों की सूची बनाई जाए जिन्होंने अब तक  जिन्होंने एक भी टीका नहीं लगवाया है।

SP और उनकी पत्नी हाथियों के हमलें में गंभीर रूप से घायल..

इसके बाद एक टीका लगवा चुके व्यक्तियों की सूची बनाई जाये। कोविड टीके की दोनों डोज लगवाने वाले व्यक्तियों की भी सूची बनाई जाये। सभी व्यक्तियों को चिन्हित करने के लिये निवास स्थान छोड़ चुके अथवा अपने निवास स्थान से अन्य स्थान के लिये पलायन करने वाले परिवारों की सूची भी बनाई जाये। कोविड-19 टीकाकरण का प्रतिरोध करने वाले परिवारों को चिन्हित कर उनकी भी सूची तैयार की जायेगी। परिवारों का चिन्हांकन कर टीकाकरण करवाने में आशा कार्यकर्ता, सहायिका, स्व-सहायता समूह, ग्राम पंचायत के सचिव, रोजगार सहायक, कोटवार, पटवारी, शिक्षक, शासकीय उचित मूल्य दुकानों के सेल्समेन, मनरेगा के मजदूर, सहकारिता संस्थाओं के सदस्य, वन-रक्षक समिति के सदस्य और उनके परिवार को दायित्व सौंपा गया है। यह सभी विभागवार योजना बनाकर शत-प्रतिशत व्यक्तियों को पहला और दूसरा डोज लगवाना सुनिश्चित करेंगे।