क्राइम ब्रांच ने नकली सीमेंट बनाने वाली फैक्टरी का किया खुलासा

भोपाल।

शुद्ध के लिए युद्ध मुहिम के तहत क्राइम ब्रांच ने नकली सीमेंट बनाने वाली फैक्टरी का खुलासा किया है। पुलिस ने छापा मारकर करीब दस लाख कीमत का मिलावटी सीमेंट बरामद कि है। इस मामले में चार लोगों को हिरासत में लिया गया है। क्राइम ब्रांच के एएसपी निश्चल झारिया के अनुसार मुखबिर से सूचना पर ग्राम परेवाखेड़ा जो अचारपुरा चौराहे में मिलावटी सीमेंट बनाने का काम कर रहा है। परेवाखेड़ा निवासी कदीर नाम का व्यक्ति दो सालों से ब्रांडेड सीमेंट की बोरियों में मिलावटी सीमेंट सप्लाई कर रहा है। वहीं ग्राम अरवलिया में एक किराये के कमरे में क्रेशर से डस्ट निकालकर आधी सीमेंट और आधी डस्ट मिला कर सीमेंट बनाया जा रहा है। इसका गोडाउन और आफिस परेवाखेड़ा में है। इस गोडाउन मे भी पुरानी डल्ले वाली सीमेंट की छनाई और क्रेशर की डस्ट को बोरियों को बंद किया जा रहा था। क्राइम ब्रांच के छापा मारकर सैकड़ों बोरियां सीमेंट की बरामद कर फैक्ट्री को सील कर दिया है। साथ ही मिलावटी सामान व लोडिंग वाहन को भी जब्त किया गया है।

नकली सीमेंट से सरपंच ने बनवा दी गांव की सड़क

क्राइम ब्रांच ने मिलावटी सीमेंट के मामले में ग्राम खजूरीह राताताल के सरंपच विनय सिंह को हिरासत में लिया है। उसके द्वारा मिलावटी सीमेंट का इस्तेमाल गांव की कांक्रीट की सड़कें व नालियों को बनाने में किया जा रहा था। फैक्ट्री व गोदाम के मालिकों के बारे में पुलिस जानकारी जुटा रही है। पुलिस ने अभी कदीर के साथी इमरान, श्यामगिरी व चेन सिंह नाम के तीन लोगों को भी हिरासत में लिया है। उनसे पूछताछ की जा रही है। वहीं कदीर फरार है।