रेलवे स्टेशनों पर छिपते हैं अपराधी, कड़ी निगरानी रखेंं: डीजीपी

-Criminals-hide-behind-the-railway-stations

भोपाल। रेलवे स्टेशनों पर संदिग्धों पर कड़ी निगरानी रखी जाए। अपराधी सामान्यतः आवागमन के लिए रेलवे का भी प्रमुखता से इस्तेमाल करते हैं। साथ ही बचने के लिए रेलवे स्टेशन पर अस्थाई ठिकाना बनाकर छुपने की कोशिश भी करते है। इसलिए स्टेशन पर सीसीटीवी कैमरों आदि के माध्यम से आने-जाने वाले हर व्यक्ति पर बारीकी से नजर रखी जाए। पुलिस महानिदेशक विजय कुमार सिंह ने रेलवे पुलिस के अधिकारियों एवं थाना व चौकी प्रभारियों की संयुक्त बैठक में यह निर्देश दिए। 

डीजीपी ने लोकसभा चुनाव को गंभीरता से लेने पर जोर देते हुए कहा रेलवे से अवैध नगदी, अवैध शस एवं मादक पदार्थो का अवैध परिवहन कदापि न होने दें। इस काम में निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार गठित एसएसटी टीम का सहयोग लें। सिंह ने प्रो-एक्टिव पुलिसिंग पर बल देते हुए कहा कि घटना के बाद पीडि़त पक्षकारों की रिपोर्ट लिखकर आरोपियों की तत्परता से गिरफ्तारी की जाए। उन्होंने अपराधियों पर कड़ाई से अंकुश लगाने के लिए उनका डाटाबेस तैयार कराने के भी निर्देश दिए।  अतरिक्त पुलिस महानिदेशक रेल श्रीमती अरूणा मोहन राव ने चुनाव को ध्यान में रखकर स्थायी वारंटियों की अभियान बतौर गिरफ्तारी करने और आदतन अपराधियों के खिलाफ सीआरपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत प्रतिबंधात्मक कार्रवाई कराने पर विशेष जोर दिया। पुलिस मुख्यालय में आयोजित बैठक में पुलिस महानिरीक्षक रेल डीपी गुप्ता, पुलिस अधीक्षक रेल मनीष अग्रवाल, जबलपुर सुनील कुमार जैन एवं इंदौर ईकाई के प्रभारी धर्मवीर यादव सहित रेलवे के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, उप पुलिस अधीक्षक एवं सभी 28 रेलवे थानों के थाना प्रभारी व चौकी प्रभारी मौजूद थे।