लाखों की लॉटरी के नाम पर ठगी, सायबर पुलिस ने दी Online Fraud से सावधान रहने की सलाह

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। घर बैठे अमीर बनने की चाहत कहीं आपको धोखाधड़ी का शिकार न बना दे। इसे लेकर मध्यप्रदेश सायबर पुलिस ने सावधान रहने की सलाह दी है। पुलिस ने कहा है कि ठग इन दिनों सायबर फ्राड के नए नए तरीके निकाल रहे हैं, ऐसे में लोगों को सतर्क रहने की जरूरत है। अगर किसी को भी ये लगे कि उसके साथ Online fraud की कोशिश की जा रही है तो वो अपनी निजी जानकारी शेयर न करे और पुलिस को इसकी शिकायत करे।

SBI में कैश डिपॉजिट करने आये युवक को बदमाशों ने बनाया अपना शिकार, बैग से उड़ाए 50 हजार

राज्य सायबर पुलिस मुख्यालय ने एक ट्वीट कर कहा है कि “KYC में लॉटरी लगने के नाम से होने वाले धोखाधड़ी से रहें सावधान !! जागरूक बनें, सुरक्षित रहें।” बता दें कि ऑनलाइन ठगी के मामले में लगातार बढ़ोत्तरी को देखते हुए सायबर पुलिस ने जनता को आगाह किया है कि किसी के झांसे में न आएं। ऑनलाइन ठगों ने KYC अपडेट करने और इसमें लॉटरी लगने के नाम पर लोगों को बेवकूफ बनाने और उनके बैंक अकाउंट से पैसे उड़ाने का तरीका निकाला है। इसमें फोन पर बैंक उपभोक्ता से बात कर उसे KYC अपडेट करने को कहा जाता है, या फिर ये लालच दिया जाता है कि उसकी लॉटरी खुली है और इस बहाने निजी जानकारियां और ओटीपी ले ली जाती है और आपका बैंक अकाउंट खाली कर दिया जाता है।

अपने ट्वीट में सायबर पुलिस ने कहा है कि इन दिनों विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय नंबरों में व्हाट्सअप करके आपके मोबाइल नंबर ने केबीसी या रिलायंस जियो द्वारा संचालित एक लकी ड्रा में 25 लाख की लॉटरी जीती है। साथ ही दिए गए मोबाइल नंबर पर संपर्क कर जीती हुई राशि प्राप्त करने की प्रोसेस करने के लिए कहा जाता है और आपको सायबर ठगी का शिकार बना लिया जाता है। इसमें प्रोसेसिंग फीस और जीएसटी के नाम पर 25 लाख इनामी राशि के बदले पैसे ट्रांसफर करने को कहा जाता है। ये प्रक्रिया कुछ हफ्ते या महीने भर जारी रहती है और इसी बीच लॉटरी की राशि बढ़ाकर 45 से 75 लाख तक बताकर और अधिक राशि ट्रांसफर करने को कहा जाता है। सायबर पुलिस ने कहा है कि केबीसी या किसी भी और संस्था द्वारा सामान्यतया इस तरह की लॉटरी नहीं निकाली जाती है और अगर किसी के पास इस तरह के फोन या मैसेज आए तो वो सतर्क हो जाएं और अपनी निजी जानकारी किसी के भी साथ साझा न करें। साथ ही इस बारे में सायबर पुलिस को सूचना दें ताकि सायबर फ्रॉड करने वालों को पकड़ा जा सके।