मोदी के बयान पर मप्र में छिड़ी बहस, सोशल मीडिया पर भिड़ी भाजपा-कांग्रेस

भोपाल| प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शुक्रवार को रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर परियोजना का लोकार्पण वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया। इस दौरान पीएम मोदी ने अपने सम्बोधन में कुछ ऐसी बातें कहीं जिसको लेकर सोशल मीडिया पर बहस शुरू हो गई| वहीं कांग्रेस ने मोदी के बयान को लपकते हुए इसे झूठा बता दिया| अब इसको लेकर भाजपा (BJP) और कांग्रेस (Congress) में ट्विटर वार शुरू हो गया है|

दरअसल, पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि रीवा की पहचान नर्मदा नदी के नाम से है। जबकि बताया जा रहा है कि नर्मदा नदी और रीवा जिले का कोई संबंध नहीं है। उन्होंने कहा रीवा ने वाकई इतिहास रच दिया है। रीवा की पहचान मां नर्मदा के नाम से और सफेद बाघ से रही है। अब इसमें एशिया के सबसे बड़े सोलर पावर प्रोजेक्ट का नाम भी जुड़ गया है।’ कांग्रेस ने ट्वीट कर पीएम मोदी के बयान को झूठा बताया|

कांग्रेस का वार
कांग्रेस ने ट्वीट कर लिखा-‘मोदी के झूठ में हुई बढ़ोतरी, नर्मदा नदी से रीवा की पहचान बताईं..! सच ये है 1- नर्मदा का उद्गम स्थल अमरकंटक है 2- अमरकंटक से जबलपुर की ओर प्रवाहित है 3- नर्मदा रीवा से 388 किलोमीटर दूर है| मोदी जी, धीरे-धीरे सच बोलने की प्रैक्टिस क्यों नहीं करते’|

कांग्रेस को सिर्फ उतना इतिहास पता जितना नेहरू ने लिखा-भाजपा
कांग्रेस के आरोपों पर भाजपा ने पलटवार करते हुए कुछ जानकारी शेयर की है| भाजपा ने ट्वीट कर लिखा-ऐसा लगता है कि कांग्रेस को भारत का सिर्फ उतना ही इतिहास पता है, जितना उनके नाना नेहरू “भारत एक खोज” में लिख गये हैं। उनके इस अधूरे ज्ञान को पूरा करने के लिये शासकीय गजेटियर यहां प्रस्तुत है… ताकि उन्हें रीवा, रेवा (नर्मदा) और रेवाखण्ड में संबन्ध समझ आ सके|