भाजपा प्रत्याशियों के ऐलान से पहले दीपक जोशी का शक्ति प्रदर्शन, समर्थकों के साथ सीएम हाउस पहुंचे

हाटपिपल्या से टिकट के लिए दावेदारी कर रहे जोशी, कांग्रेस से भाजपा में आए मनोज चौधरी का टिकट माना जा रहा तय

Deepak Joshi CM House

भोपाल/हाटपिपल्या, सोमेश उपाध्याय| मध्य प्रदेश (Madhyapradesh) की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव (Byelection) को लेकर कांग्रेस (Congress) जहां 24 सीटों पर प्रत्याशी घोषित कर चुकी हैं, वहीं भाजपा (BJP) ने अब तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं| हालांकि कांग्रेस से आये नेताओं का टिकट पक्का माना जा रहा है| इस बीच पूर्व मंत्री दीपक जोशी (Deepak Joshi) ने टिकट के लिए दावेदारी की है| समर्थकों के साथ दीपक जोशी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) से मिलने सीएम हाउस (CM House) पहुंचे हैं|

पूर्व केबिनेट दीपक जोशी देवास जिले की हाटपिपल्या सीट से पहले विधायक रह चुके हैं| पूर्व मंत्री जोशी 2018 में हाटपिपल्या से चुनाव हारे हैं| यहां जोशी का टिकट कांग्रेस से भाजपा में आए मनोज चौधरी को दिया जा सकता है| इसके चलते उनकी पीड़ा कई बार सामने आ चुकी है| उनकी नाराजगी को लेकर यह चर्चा भी जोरो पर रही कि पूर्व मंत्री जोशी कांग्रेस में जा सकते हैं| हालांकि उन्होंने पहले चर्चा में बताया था कि कमलनाथ ने उन्हें कांग्रेस में आने की बात कही है लेकिन उन्होंने इसको लेकर फैसला नहीं लिया है| इस बीच अब दीपक जोशी अब खुलकर अपनी दावेदारी ठोक रहे हैं|

प्रदेश के सियासी इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा उपचुनाव है। सियासी फेरबदल के कारण उपचुनाव हो रहे हैं, ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कांग्रेस के 22 विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा देकर भाजपा का दामन थाम लिया था। कांग्रेस से आये नेताओं के कारण भाजपा के कई नेताओं का राजनीतिक भविष्य भी खतरे में आ गया है| इन्ही में दीपक जोशी भी शामिल हैं| मुख्यमंत्री से मुलाक़ात के बाद दीपक जोशी बड़ा निर्णय ले सकते हैं|

नाराजगी की यह वजह भी
जोशी के क्षेत्र से इस बार सिंधिया समर्थक पूर्व विधायक मनोज चौधरी का टिकट तय है| जोशी के बयान भी सीधे तौर पर उनकी नाराजगी जाहिर कर रहे है| वही सूत्रों के हवाले से जानकारी यह भी है कि बरोठा में आयोजित सीएम की सभा मे जोशी समर्थकों को किनारे कर दिया गया था। वही जोशी के पिता व पूर्व सीएम स्व.कैलाश जोशी की जयंती के अवसर पर सीएम ने स्व.जोशी की अंतिम इच्छानुसार बागली को जिला बनाने की घोषण तो कर दी थी, परन्तु घोषण के 2 माह बाद तक भी कागजी कार्यवाही शुरू ना होने से वे खफ़ा है।जोशी चाहते है कि उनके पिता की प्रथम पुण्यतिथि पर बागली को पृथक जिला बना दिया जाए। चर्चा में जोशी ने बताया कि बीते दिनों बरोठा में आयोजित सीएम की सभा मे कुछ कार्यकर्ता सूचना व संशाधन के अभाव में छूट गए थे| सीएम से चर्चा की तो उन्हें कहा कि मेरे दरवाजे सभी के लिए खुले है उन्हें भोपाल ले आओ। साथ मेरी पार्टी से कोई नाराजगी नही है वैचारिक मतभेद बड़े नेताओं की समझाइश से दूर हो गए है।परन्तु मेरे साथ बागली-हॉटपिपल्या के हजारों कार्यकर्ता भी जुड़े है। ये न केवल मेरे साथ बल्कि स्व.जोशी जी के साथ भी जुड़े रहे है। इनकी बातों व समस्याओं को लेकर आज सीएम से मुलाकात सीएम हाउस में होंगी।

बागली विधायक भी साथ-

सीएम हाउस स्थित सभागृह में जोशी के साथ जिले के वरिष्ठ भाजपा नेता, मण्डल अध्यक्ष, नप अध्यक्ष और बागली विधायक पहाड़ सिंह कन्नौजे भी मौजूद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here