मानसून में हो रही देरी, अभी और तपेगा एमपी, यहां भीषण गर्मी की चेतावनी

-Delay-in-monsoon-here-heat-warning-in-mp

भोपाल।

मध्यप्रदेश की राजधानी समेत प्रदेश का हर जिला भीषण गर्मी की मार झेल रहा है। दिन में सड़कों पर सन्नाटा पसरा है। लोग बाहर निकलने में कतरा रहे हैं। प्रचंड गर्मी को देखते हुए स्कूलों का समय पर परिवर्तित कर दिया गया है।राजधानी भोपाल में गर्मी ने बीते 40  सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिए है। रात में भी तापमान 35 से ऊपर है। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार भोपाल में दिन के समय 45.9 डिग्री सेल्सियस तापमान रिकार्ड किया गया। यह सामान्य तापमान से 5.8 डिग्री सेल्सियस अधिक है। वहीं रात के समय यहां लगभग 31 डिग्री सेल्सियस तापमान रहता है। 

इन जिलों में पड़ रही भीषण गर्मी

मौसम विभाग की माने तो रीवा, श्योपुर, शिवपुरी, सीधी, टीकमगढ़, जबलपुर, उज्जैन,रायसेन, दमोह, उमरिया, राजगढ़, शाजापुर, खजुराहो,ग्वालियर, खरगोन, एवं मंडला आदि जिले गर्मी की कहर से खूब तप चुके है। ख़ास बात यह है कि अभी भी मौसम विभाग द्वारा तापमान में गिरावट आने के कोई संकेत नहीं दिए जा रहें हैं। मतलब साफ़ है कि अभी इस भीषण गर्मी से कितना तपना पड़ेगा इस बात का कोई अंदाजा नहीं हैं।  आपको बता दें कि मौसम विभाग ने अगले चौबीस घंटों के लिए ग्वालियर, गुना, टीकमगढ़, शाजापुर, श्योपुर, रायसेन, खरगोन और राजगढ़ जिलों के लिए  ‘‘रेड अलर्ट’’ जारी किया है। साथ ही प्रदेश के अन्य शेष जिलों में लू की चपेट में रहने की सम्भावना है। 

अब तक प्रदेश में यहां हो चुकी बूंदा-बांदी 

आपको बता दें कि अभी तक प्रदेश के कई जिलों में हल्की बूंदा बांदी भी हो चुकी है। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो पचमढ़ी, सागर एवं बैतूल जिलों में कहीं कहीं बूंदा बांदी की खबरे भी मिली हैं।

गर्मी के कारण अनेक कार्य हुए प्रभावित

अभी तक मध्यप्रदेश में भीषण गर्मी के कारण अनेक कार्य प्रभावित हुए है। स्कूलों के ग्रीष्मकालीन अवकाश बड़ा दिए गए हैं। सूखा पद जाने के कारण  प्रदेश में कई जगहों पर लोगों को मीलों दूर से पानी लाने को मजबूर होना पद रहा है तो वही कहीं कहीं लोगो को मजबूरी में गड्डो का पानी पीकर गुजारा करना पड़ रहा है। 

लू लगने से हो चुकी कइयों की मौत 

मध्यप्रदेश में इस बार गर्मी जानलेवा गर्मी बानी हुई है। कई लोगो ने रस्ते में चलते चलते ही गर्मी के कारण दम तोड़ दिया तो कई बीमार हो गए। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्रदेश में बीतें 5 दिनों में लगभग 7 लोगो की मौत हो गई है। साथ ही यह भी खबर मिली है कि देवास जिले में भीषण गर्मी के दौरान पानी न मिलने की वजह से काले मुंह वाले 15 बंदरों की मौत हो गई। 

अस्पतालों में लग रहीं कतारें 

एमपी ब्रेकिंग से खास बातचीत करते हुए शाजापुर जिले के कालापीपल ब्लॉक मेडिकल अधिकारी जे.पी.दुबे ने बताया कि हर दिन लगभग 60 प्रतिशत से अधिक मरीज सिर्फ गर्मी की वजह से बीमार हो रहे हैं। डॉक्टर दुबे ने बताया कि उल्टी, पेट दर्द, जैसी बीमारियों के मरीजों की संख्या अधिक है। साथ ही उन्होंने स्वस्थ रहने के लिए सावधानी बरतने के लिए भी कहा है। बीमारियों से बचने के लिए अधिक से अधिक साफ़ सुथरा पानी पीने एवं खाली पेट घर से बाहर ना निकलने की अपील की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here