नई सरकार में उठी व्यापमं को बन्द कराने की मांग

5408
Demand-for-the-closure-of-the-newly-formed-government

भोपाल

मध्यप्रदेश में सत्ता परिवर्तन होते ही व्यापमं की चर्चा फिर से  शुरु हो गई है।नई सरकार में छात्रा द्वारा अब उसे बंद कराने की मांग उठने लगी है।इसके लिए बड़ी सख्यां में युवा भोपाल के चिनार पार्क में प्रदर्शन करने पहुंचे । वही युवाओं से मिलने कांग्रेस के नवनिर्वाचित विधायक कुणाल चौधरी भी पहुंचे है। बातचीत के दौरान छात्रों ने पीईबी के अधिकारियों पर गड़बड़ी करने का आरोप लगाया है।छात्रों का कहना था कि ग्रुप 4 परीक्षा के परिणामो में गड़बड़ी हुई है। उन्होंने मांग की है कि व्यापमं को बंद और नियुक्तियों को होल्ड किया जाए।इसके बाद छात्रों का एक प्रतिनिधिमंडल कमलनाथ के पास पहुंचा और शिकायत की। मामले को गंभीरता से लेते हुए कमलनाथ ने भी जांच के आदेश देकर कार्रवाई का आश्वासन दिया।

दरअसल, जुलाई में हुई ग्रुप 4 अस्सिटेंट ग्रेड 3 की परीक्षा संदेह के घेरे में आ गयी है। परीक्षा के 10 टॉपर में से अनेक लोग पिछली परीक्षाओं में 40% अंक भी प्राप्त नहीं कर सके थे। और इस परीक्षा में उन्हें 95% अंक प्राप्त हुए हैं। जो साफ तौर पर एक बड़े घोटाले की तरफ इशारा करता है। इस घोटाले की SIT जांच को लेकर बेरोजगार सेना समेत प्रदेश के अनेक जिलों से सैकड़ों की तादाद में युवा आज चिनार पार्क में एकत्र हुए। उन्होंने कहा कि अगर ग्रुप 4 परीक्षा के सभी चयनित अभ्यर्थियों की जानकारी सार्वजनिक की जाए तो ऐसे सैकड़ों मामले सामने आएंगे।

वही छात्राों से मिलने पहुंचे विधायक कुणाल चौधरी ने भी भाजपा पर जमकर हमला बोला। चौधरी ने कहा कि ये जिन्न नही बहुत बड़ा घोटाला है। व्यापमं के माध्यम से पिछली सरकार में योग्यताओं का बेरहम कत्ल और पढ़ने वालों का सामूहितक नरसंहार किया गया था। जब भी नौजवान इस पर चर्चा करने चाहते ना तो सरकार उनकी सुनती औऱ ना ही कोई कार्रवाई करती ।मुझे मुख्यमंत्री कमलनाथ ने यहां भेजा है और कहा है कि छात्रों से जाकर मिलों और उनकी मूलभूत समस्याओं को जानों कि आखिर ये घोटाला हुआ कैसे। यह यूपी के टॉपर घोटाले की तरह बीजेपी ने यह घोटाला किया है। कांग्रेस इन नौजवानों को न्याय दिलाएंगी और इसकी एसआईटी से जांच कराएंगी।

सीएम कमलनाथ ने दिए जांच के आदेश

छात्रों से चर्चा के बाद विधायक कुणाल चौधरी ने छात्रों के एक प्रतिनिधिमंडल को मुख्यमंत्री कमलनाथ से मिलवाया। इसके बाद व्यापमं पीड़ित छात्रों द्वारा इस घोटाले की जांच की मांग मानते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मुख्य सचिव और प्रमुख सचिव को जांच कराने के निर्देश दिए। कमलनाथ ने मुख्य सचिव और प्रमुख सचिव को निर्देश दिए कि मामले पर संज्ञान लेकर इसकी पड़ताल कराएं।

ये है पूरा मामला

ज्ञात हो कि 28 से 31 जुलाई तक आयोजित हुई इस परीक्षा में 2700 पदों के लिए लगभग 1 लाख 40 हजार परीक्षार्थी शामिल हुए थे। यह परीक्षा शुरू से ही विवादों में रही है। इस परीक्षा में सर्वर खराब होने की शिकायत की बाद लगभग 250 लोगों ने 45 दिन बाद री एग्जाम दिया था। 12 दिसंबर को इसका परिणाम आया जिसमें भारी गड़बड़ी हुई है। 10 टॉपरों में 6 ऐसे हैं जिनके पिछली परीक्षाओं में 50 प्रतिशत नंबर भी नहीं आये थे, इस बार उनके 95% तक अंक आये हैं।

उम्मीदवारों द्वारा दिए गए ये तर्क

1. बार बार रूल बुक में संसोधन करना (5 से 6 बार)

2. परीक्षा के दिन एग्जाम सेंटर से ही कालेज प्रबंधन द्वारा नकल कराए जाने का वीडियो आया था 

3. व्यापम के सभी भर्ती परीक्षा में जानबूझकर गलत प्रश्नो को सम्मलित करना फिर उनके उत्तर भी गलत जारी करना और हर परीक्षा में 5 से 6 प्रश्नों को निरस्त करके छात्रों को बोनस मार्क्स देके लाभ पहुचाना

4.शायद ही ऐसा कोई एग्जाम हो जिसमें पूरे 100 प्रश्नों से रिजल्ट बना हो । सभी भर्ती परीक्षाओ में कुछ प्रश्नों को बार बार निरस्त किया जाता है 

5. ग्रुप 4 परीक्षा के सम्पन्न होने और उत्तर कुंजी जारी हो जाने के 45 दिन बाद रीएग्जाम कराना ।

6.ग्रुप 4 परीक्षा के लिए लगभग 1 लाख 25 हजार लोगों ने आवेदन किया था जिनमे से लगभग 1 लाख 4 हजार लोगों ने परीक्षा दी थी परीक्षा में अनुपस्थित रहे तकरीबन 21 हजार लोगों में से मात्र 400 से 500 विशेष लोगो के लिए अलग से प्रवेश पत्र जारी करके दोबारा से  परीक्षा का आयोजन कराना पूर्णतः संदिग्ध है ।

7.नॉर्मलाइजेसन में नम्बरो को कम ज्यादा करना। बोर्ड किसी छात्र द्वारा अर्जित अंको को आखिर कैसे अपनी मनमानी से बढ़ा घटा सकता है। 

8. ग्रुप 4 परीक्षा के रिजल्ट को जारी किया गया है जिसका अध्यन करने में यह बात सामने आई है कि टॉप टेन में स्थान प्राप्त करने वाले सारे ही अभ्यार्थियों को पूर्णाक 100 मे से 90 से लेकर 95 नम्बर तक प्राप्त हुए है जबकि पीईबी द्वारा पूर्व में आयोजित पटवारी भर्ती परीक्षा और वनरक्षक / जेल प्रहरी भर्ती परीक्षा में इन सभी टॉप टेन के छात्रों द्वारा 30 से 50 नम्बर से अधिक कोई भी अर्जित नही कर सका है ।

9. टॉप टेन के छात्रों के पीईबी के अन्य परीक्षाओ के रिजल्ट देखने से यह साबित होता है कि चयन प्रक्रिया में जमकर गड़बड़ियां की गई है और इन सभी का भर्ती परीक्षा में अनुचित चयन कराया गया है  इसलिए भर्ती परीक्षा के प्रत्येक चरण की जांच विशेष जांच टीम गठित करके जल्द से जल्द कराई जाए।

10. जबतक भर्ती प्रक्रिया की जांच पूरी नही हो जाती तब तक भर्ती प्रक्रिया को यथावत रखा जाए  और जांच रिपोर्ट आने के बाद  भर्ती प्रक्रिया को  पूर्णतः पारदर्शिता के साथ पूरा किया जाए।

11. उत्तम चयन का बोर्ड लगा के  पीईबी प्रत्येक भर्ती परीक्षा में जबरदस्त गड़बड़ियां कर रहा है जो प्रत्येक परीक्षाओ में सामने आ रही है और जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा हर बार  पल्ला झाड़ लिया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here