धार मॉब लिंचिंग: अब SI भी निलंबित, सरकार ने दोगुना किया मुआवजा

डबरा

भोपाल।
मध्यप्रदेश के धार जिले में हुई मॉब लिचिंग की घटना के बाद डीजीपी वीके सिंह ने टीआई युवराज सिंह चौहान समेत छह पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया था। इसी कडी में अब एसपी आदित्य प्रताप सिंह ने तिरला थाने के एसआई रमेश चौहान को भी निलंबित कर दिया है।बताया जा रहा है कि मॉब लिंचिंग के शिकार युवक ने पहले तिरला थाने में आवेदन दिया था और उसके बाद खिड़कियां गांव पहुंचे थे. लेकिन एसआई रमेश चौहान ने मामले को दबा दिया था। थाने में लगे CCTV कैमरे में भी एसआई की भूमिका उजागर हुई थी, जिसके बाद धार एसपी ने लापरवाह एसआई को निलंबित कर दिया है अब तक इस घटना में कुल सात पुलिसकर्मी सस्पेंड किए जा चुके हैं।फिलहाल मामले की जांच एसआईटी कर रही है।

वही इस घटना पर सियासत होता देख प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने मृतक और घायलों के परिवार को दी जाने वाली मुआवजा राशि बढ़ाने का भी ऐलान कर दिया है।कमलनाथ सरकार ने हादसे में मारे गए एक किसान के परिवार को अब दो लाख रुपए की जगह चार लाख रुपए का मुआवजा राशि देने की घोषणा की है। स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि घायलों को भी कमलनाथ सरकार 1-1 लाख रुपए की मदद राशि मुहैया कराएगी। घायलों का अस्पताल में फ्री इलाज कराया ही जा रहा है।

इससे पहले पुलिस महानिदेशक वीके सिंह ने बड़ी कार्रवाई करते हुए टीआई सहित छह पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया था। वही मामले की जांच के लिए एडिशनल एसपी देवेंद्र पाटीदार के नेतृत्व में विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है। एडिशनल एसपी देवेंद्र पाटीदार के नेतृत्व में दो टीआई और तीन एसआई स्तर के अधिकारियों को जांच दल में रखा गया है। मामले की जल्द ही छानबीन कर रिपोर्ट देने को कहा गया है। इतना ही नही पुलिस ने वीडियो फुटेज के आधार पर 30 से अधिक लोगों को आरोपित के तौर पर चिह्नित कर उनके फोटो सार्वजनिक किए हैं। इसके लिए तीन हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं। अगर ये लोग कहीं भी दिखे तो हेल्पलाइन नंबर पर लोग सूचना दे सकते हैं। इधर इस मामले में भाजपा नेता और ग्राम जूनापानी के पूर्व सरपंच रमेश जूनापानी सहित चार को गिरफ्तार किया है।

बता दे कि धार जिले के तिरला थाना क्षेत्र के खड़किया गांव में बुधवार को बच्चा चोरी का आरोप लगाते हुए 6 लोगों की बेहरमी से पिटाई कर दी थी। मॉब लिंचिंग की इस घटना में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी जबकि 5 व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गए थे। वही दो लोगों की हालत बेहद गंभीर है। सभी घायलों का इंदौर के एमवाय अस्पताल में इलाज जारी है।