एमपी की 15वीं विधानसभा में डिजिटल सिग्नेचर करेंगें नए विधायक

Digital-Signature-to-be-introduced-in-the-15th-Assembly-of-MP-new-legislator

 भोपाल।

11  दिसंबर को स्थिति साफ हो जाएगी कि सरकार किसकी बनेगी और कौन प्रदेश पर राज करेगा।लेकिन इससे पहले पंद्रहवीं विधानसभा की तैयारियां जोरों पर है। पहले की तुलना में इसमें कई तरह के बदलाव किए जा रहे है। नए चुने जाने वाले विधायकों के लिए स्वागत कक्ष और विश्राम गृह तैयार करवाए जा रहे हैं।  इसके साथ ही अब नये विधायक साधारण सिग्नेचर की बजाय डिजिटल सिग्नेचर करेंगे।ये पहली बार होगा जब नए विधायक डिजिटल सिग्नेचर करेंगे। विधानसभा के प्रमुख सचिव एपी सिंह ने ये जानकारी दी है। 

उन्होंने बताया कि भारतीय परम्परा के तहत उनका स्वागत होगा। इसके लिए सचिवालय ने विशेष तैयारी की है। तैयारी एेसी है कि उन्हें सभी सुविधाएं एक ही स्थान पर उपलब्ध हो जाएं।सचिवालय में स्वागत कक्ष तैयार किया जा रहा है। यहां नव निर्वाचित विधायकों के प्रवेश पत्र के लिए फोटो, आवास सुविधा, टेलीफोन सुविधा की व्यवस्था यहीं से हो जाएगी। सदन संबंधी सहित्य भी उन्हें यहीं उपलब्ध करा दिया जाएगा। स्वागत कक्ष में विधायकों के डिजिटल सिग्नेचर लिए जाएंगे। इनके माध्यम से ही विधायक ऑनलाइन काम-काज कर सकेंगे। मंत्री विधायकों के चेम्बरों को भी हाईटेक तरीके से तैयार किया जा रहा है।हालांकि अभी मुख्यमंत्री मंत्री कक्ष में कोई बदलाव नहीं किया जा रहा। नए मुख्यमंत्री चाहेंगे तो बदलाव किया जाएगा।

बता दे कि फिलहाल विधायकों के लिए एसएलए रेस्ट हाउस में पचास कक्ष रिक्त हैं। ऐसे वर्तमान विधायक जो इस बार चुनाव नहीं लड़ रहे हैं और नतीजे आने के बाद जो हार जाएंगे उन विधायकों को सरकारी कोटे से आवंटित रेस्ट हाउस और कक्ष खाली करने के लिए नोटिस जारी किया जाएगा। विधानसभा सचिवालय में समिति कक्ष के बाहर नए स्वागत कक्ष में विधायकों के प्रवेश पत्र कूपन प्रदाय करने उन्हें आवास सुविधा उपलब्ध कराए जाने और अन्य सुविधाएं प्रदान करने उनके निर्वाचन प्रमाण पत्रों की जांच के लिए विशेष काउंटर लगाए जाएंगे।

क्या है डिजिटल सिग्नेचर

डिजिटल सिग्नेचर एक मैथमेटिकल तकनीक है जो मैसेज, सॉफ्टवेयर या डिजिटल डॉक्यूमेंट की ऑथेंटिसिटी और इंटीग्रिटी को वैलिडेट करता है। डिजिटल सिग्नेचर हाथ से लिखा हुआ सिग्नेचर या स्‍टेम्‍प सील के बराबर  होता हैं, लेकिन यह डिजिटल कम्युनिकेशन्स में छेड़छाड़ और प्रतिरूपण की समस्या को हल करता है। डिजिटल सिग्नेचर इलेक्ट्रॉनिक डॉक्यूमेंट, ट्रैन्ज़ैक्शन या मैसेज के ओरिजिन, पहचान और स्थिति के प्रमाण का अतिरिक्त आश्वासन प्रदान करता हैं, साथ ही साइनर (हस्ताक्षरकर्ता) द्वारा सूचित सहमति स्वीकार कर सकते हैं। जैसे कागज के सर्टिफिकेट्स पर मैनुअली साइन किये जाते थे, वैसे ही इलैक्‍ट्रोनिक सर्टिफिकेट्स पर डिजिटल सिग्नेचर किये जाते हैं। यह कानूनी तौर पर मान्‍य होते हैं।