पुलवामा हमले पर दिग्विजय की सलाह.. ‘सिद्धू जी अपने दोस्त इमरान भाई को समझाएं’

digvijay-singh-asks-navjot-singh-sidhu-to-make-imran-khan-understand

भोपाल। पुलवामा हमले के बाद देशभर में गुस्से का माहौल है और जनता बदला लेने की बात कह रही है। इसी बीच पाकिस्तान को लेकर पहले से ही विवादों में घिरे पूर्व क्रिकेटर और पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को अब पार्टी के वरिष्ठ नेता और मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने नसीहत दी है। दिग्विजय ने नवजोत सिद्धू को पाक के पीएम इमरान खान का दोस्त बताया है और ट्वीट कर कहा है कि अपने दोस्त इमरान भाई को समझाइए, उसकी वजह से ही आपको गाली पड़ रही है। दिग्वियजय के इस बयान के बाद कांग्रेस में हड़कंप मच गया है।  

दरअसल, बीते गुरुवार को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद कांग्रेस नेता और पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने बड़ा ही विवादित बयान दिया था।सिद्धू ने कहा था कि इस तरह के कायराना आतंकी हमले के लिए पूरे देश को जिम्मेदार ठहराना ठीक नहीं है। आतंकवादियों का कई दीन और मजहब नहीं होता है। दुनिया में अच्छे, बुरे लोग हैं। हर संस्थान में ऐसे लोग होते हैं, हर देश में ऐसे लोग होते हैं, जो बुरे हैं, उसे सज़ा दी जानी चाहिए, लेकिन किसी बुरे इंसान के कायरतापूर्ण काम के लिए सबको दोष देना उचित नहीं है। सिद्धू के इस बयान के बाद से ही  देश में सियासी बवाल मचा हुआ है, लोगों में गुस्सा है और वे सिद्धू को पकिस्तान भेजने की बात कह रहे है। इसके चलते हाल ही में उन्हें  ‘द कपिल शर्मा शो’ से हटा दिया गया था।  अभी ये मामला ठंड़ा हुआ ही नही था कि अब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने पुलवामा अटैक को लेकर सिलसिलेवार ट्वीट कर राजनैतिक गलियारों में हलचल पैदा कर दी है। दिग्विजय ने अपनी ही पार्टी के नेता और पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू को ताना देते हुए कहा कि उन्हें अपने दोस्त इमरान खान को समझाना चाहिए

इमरान को दी चुनौती

इसके अलावा सिंह ने इमरान खान को भी चुनौती दी है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि ‘पाकिस्तान के श्रीमान प्रधानमंत्री कमऑन! कुछ साहस दिखाइए और हाफिज सईद और मसूद अजहजर आतंक के स्वघोषित सरगनाओं को भारत को सौंपिए। आप ऐसा कर न सिर्फ पाकिस्तान को आर्थिक संकट से निकालने में सक्षम होंगे, बल्कि नोबेल शांति पुरस्कार के भी प्रबल दावेदार बन जाएंगे। 

मोदी भक्तों पर भी बोला हमला

दिग्विजय सिंह प्रधानमंत्री मोदी और आरएसएस के कठोर आलोचक माने जाते हैं। इस बार भी अपनी ट्वीट की सीरीज में उन्होंने मोदी के समर्थकों पर निशाना साधा। अगले ट्वीट में दिग्विजय ने लिखा मुझे पता है कि मोदी भक्त ट्रोल करेंगे, लेकिन मुझे इसकी परवाह नहीं है। इमरान खान को एक क्रिकेटर के तौर पर मैं पसंद करता हूं, लेकिन मुस्लिम कट्टरपंथियों और आईएसआई समर्थित गुटों का समर्थन कर रहे हैं। मैं इस पर यकीन नहीं कर पा रहा हूं।

कश्मीरी लोगों को परेशान ना करने की अपील

दिग्विजय सिंह ने कश्मीर के छात्रों और स्थानीय नागरिकों को उत्पीड़ित नहीं करने की अपील करते हुए कहा एक भारतीय के तौर पर क्या हम कश्मीरी छात्रों और कश्मीरी व्यापारियों को पूरे देश में परेशान करना नहीं छोड़ सकते हैं? क्या हम ऐसा कश्मीर चाहते हैं जिसमें कश्मीरी ही न हों? एक राष्ट्र के तौर पर हमें अपना विकल्प चुनना ही होगा।

कश्मीर मुद्दे का हल निकाले राजनैतिक पार्टियां

इसके अलावा  सभी राजनैतिक पार्टियों से कश्मीर समस्या का समाधान ढूंढ़ने की भी मांग की है और रोडमैप तैयार की सलाह दी है। दिग्विजय ने लिखा है कि कश्मीर की समस्या 71 साल पुरानी है और हम सब इसके दोषी हैं। क्या हम इसके लिए कुछ खास नहीं कर सकते? हम कर सकते हैं। क्या कांग्रेस, बीजेपी, एनसी, पीडीपी और अन्य पार्टियां जो कश्मीर में मौजूद हैं एक रोडमैप अगले 10 साल के लिए तैयार नहीं कर सकते, जिसे हर हाल में पूरा किया जाना चाहिए?’

बता दें कि पुलवामा में गुरुवार को हुए आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए।जम्मू एवं कश्मीर में 1989 में आतंकवाद के सिर उठाने के बाद पुलवामा जिले में श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग पर हुए सबसे घातक आतंकवादी हमले में जैश-ए-मोहम्मद के एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटकों से भरी अपनी एसयूवी को सीआरपीएफ की एक बस में टक्कर मार दी थी, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए और कई घायल।