उज्जैन घटना पर बयान देकर घिरे दिग्विजय सिंह, नरोत्तम मिश्रा बोले- नहीं होगी दोबारा जांच

नरोत्तम मिश्रा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा(Home Minister Dr Narottam Mishra) ने दिग्विजय सिंह के बयान पर पलटवार किया है।पूरे विश्व में काजी साहब जिंदाबाद के नारे नहीं सुने होंगे लेकिन दिग्विजय सिंह जी ने सुन लिए इनकी अद्भुत श्रवण क्षमता है।  मेरा अनुरोध है दिग्विजय सिंह जी से पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वाले लोगों का नेतृत्व करते हुए पाकिस्तान छोड़ आये और उसके लिए जो उन्हें मदद चाहिए हो वह हम करेंगे।

यह भी पढ़े.. कर्मचारियों को सितंबर में मिल सकती है गुड न्यूज, बढ़ेगा DA, इतनी हो जाएगी सैलरी

गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मध्य प्रदेश में तालीबानी सोच व राष्ट्र विरोधी मानसिकता वालों को बख्शा नहीं जाएगा। उज्जैन मामले की नए सिरे से जांच नहीं होगी।दिग्विजय सिंह जी (Digvijay Singh) अपनी तुष्टिकरण की सियासत के लिए देश विरोधी लोगों के पक्ष में खड़े होते आए हैं। उनको ऐसे लोगों का नेतृत्व कर पाकिस्तान ले जाना चाहिए। वही इंदौर में दो समुदायों के बीच हुए विवाद मामले में दोनों पक्षों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की गई है गृह विभाग की रिपोर्ट के अनुसार एक विशेष समुदाय का व्यक्ति हिन्दू नाम रखकर चूड़ियां बेच रहा था जिसके कारण सारा विवाद हुआ।

यह भी पढ़े.. रिपोर्ट: अक्टूबर में आ सकती है तीसरी लहर, पीक पर होगा कोरोना, बच्चों को ज्यादा खतरा 

दरअसल, दिग्विजय सिंह ने रविवार को उज्जैन (Ujjian Video Viral) में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे का वीडियो वायरल होने की घटना पर ट्वीट करते लिखा था कि फेक न्यूज़ के आधार पर “क़ाज़ी साहब ज़िंदाबाद” को “ पाकिस्तान ज़िंदाबाद” बता कर कई लोगों पर मुक़दमे दायर हो गए। मप्र पुलिस (MP Police) को कार्रवाई करने के पूर्व वास्तविकता का पता लगा लेना चाहिए था। यदि गिरफ़्तारी हुई है तो प्रकरण वापस लेना चाहिए।

दिग्विजय सिंह की केंद्रीय एजेंसियों से करवाएंगे जांच

वही चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग (Medical Education Minister Vishwas Sarang) ने भी दिग्विजय सिंह पर गंभीर आरोप लगाए है।दिग्विजय सिंह पाकिस्तान के स्लीपर सेल की तरह काम करते हैं। वे आईएसआई की तरह काम करते हैं।दिग्विजय सिंह की जांच के लिए केंद्रीय एजेंसियों से बात करेंगे।बैंक खाते और डिटेल्स कि जांच की मांग की जाएगी।