भोपाल। भोपाल से कोलंबो (श्रीलंका) सीधी विमान सेवा शुरू की जाएगी। सांची में विश्व बौद्ध संग्रहालय और शिक्षण संस्थान की स्थापना का काम जल्द शुरू किया जाएगा। मध्यप्रदेश के आध्यात्म मंत्री पीसी शर्मा की कोलंबो में श्रीलंका सरकार के विदेश मंत्री दिनेश गुणवर्धने के साथ हुई बैठक में यह निर्णय लिये गए। बैठक में महाबोधि सोसायटी के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष भिक्खु वानगल उपतिस्स नायक थेरो और मध्यप्रदेश सरकार के अपर मुख्य सचिव मनोज श्रीवास्तव उपस्थित थे।

बैठक में श्रीलंका के विदेश मंत्री श्री गुणवर्धने ने कहा कि भारत सरकार द्वारा भोपाल से कोलंबो विमान सेवा शुरू करने की पहल स्वागत योग्य है। उन्होंने कहा कि श्रीलंका सरकार कोलंबो से भोपाल के लिए सीधी विमान सेवा शुरू करने के लिए तैयार है। श्रीलंका के विदेश मंत्री ने कहा कि श्रीलंका से लाखों यात्री भोपाल और सांची जाते हैं। भोपाल-कोलंबो के बीच डायरेक्ट एयर कनेक्टिविटी से लाखों लोगों को लाभ होगा।

बैठक में आध्यात्म विभाग द्वारा सांची में विश्व बौद्ध संग्रहालय और शिक्षण संस्थान, भिच्छु प्रशिक्षण और बुद्धिस्ट चेंटिंग सेंटर की स्थापना पर विस्तृत चर्चा हुई। विश्व बौद्ध संग्रहालय और शिक्षण संस्थान के प्रोजेक्ट को प्रस्तुत किया गया। बौद्ध संग्रहालय और शिक्षण संस्थान में बौद्ध दर्शन, बौद्ध विज्ञान, बौद्ध कला एवं संस्कृति और बौद्ध समारोह के साथ दुनिया के विभिन्न देशों में स्थित बौद्ध धर्म के तीर्थ, बौद्ध धर्म की परंपराएं एवं बौद्ध धर्म को मानने वालों की जीवन और कला शैली को शामिल किया गया है। मंत्री श्री शर्मा ने बताया है कि श्रीलंका के विदेश मंत्री श्री गुणवर्धने ने प्रोजेक्ट को वित्तीय समर्थन देने की स्वीकृति प्रदान की है।

श्रीलंका में शुरू होंगे भारत के सांस्कृतिक कार्यक्रम : शर्मा

आध्यात्म मंत्री श्री शर्मा ने बताया कि भारत में श्रीलंका और श्रीलंका में भारत के लोक कल्याण, लोक कला और संस्कृति पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रमों के नियमित आयोजनों का सिलसिला भी शुरू किया जाएगा। श्रीलंका के विदेश मंत्री ने कहा कि आयोजनों को शुरू करने संबंधी प्रस्ताव पर चर्चा करने श्रीलंका सरकार सांस्कृतिक दल को मध्यप्रदेश भेजेगी। मंत्री श्री शर्मा ने महाबोधि सोसाइटी के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष भिक्खु वानगल उपतिस्स नायक थेरो को 70वें जन्म-दिवस पर बधाई दी। श्री उपतिस्स का भारत और विशेषकर मध्यप्रदेश में सांची बौद्ध केंद्र से सतत संपर्क रहा है। मंत्री श्री शर्मा ने बताया कि महाबोधि सोसाइटी भारत में आजादी के बहुत पहले से कार्यरत है। श्रीलंका में महाबोधि सोसायटी का आज 40वां स्थापना दिवस होने पर महाबोधि सोसायटी के अध्यक्ष को उन्होंने बधाई दी।