विंध्य की 26 सीटों के परिणाम पर शंका, अजय सिंह ने की VVPAT पर्ची की गणना कराने की मांग

Doubt-over-the-result-of-Vindhya's-26-seats-Ajay-Singh-demanded-the-calculation-of-VVPAT-slip

भोपाल।  लोकसभा चुनाव से पहले एक बार फिर देश भर में ईवीएम का मुद्दा गरमा गया है| वहीं मध्य प्रदेश के विंध्य में कांग्रेस को हुए नुकसान के बाद चुनाव नतीजों को लेकर शंका पैदा हो गई है| जिसके चलते पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह के साथ विंध्य क्षेत्र के कुछ प्रत्याशियों ने मंगलवार को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव से मुलाकात कर वीवीपैट की पर्ची से गणना कराने की मांग उठाई है। इस मुलाकात के बाद मीडिया से चर्चा में अजय सिंह ने कहा है कि उन्होंने इस सम्बन्ध में सीईओ कांताराव को ज्ञापन सौंपा है, उन्होंने भरोसा दिलाया है कि वे इस मामले को मार्गदर्शन के लिए चुनाव आयोग भेजेंगे।

अजय सिंह ने बताया कि चुनाव नतीजों को लेकर लोगों के मन में शंका और भ्रम है। इसे दूर करने के लिए वीवीपैट की पर्ची से गणना कराई जाए। अगर एक बार इसकी गिनती की जायेगी तो फिर कभी इस तरह के सवाल ही खड़े नहीं होंगे। वैसे भी ईवीएम को लेकर तरह-तरह की बातें उठ रही हैें। उन्होंने हैकिंग की भी सम्भावनों को लेकर आशंका जाहिर की| 

अजय सिंह ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव को दिए ज्ञापन में कहा है कि देश में ईवीएम को लेकर शंका का माहौल था और यही कारण है कि सुप्रीम कोर्ट ने यह निर्णय दिया था कि फ्री एवं फेयर चुनाव के लिए वीवीपैट का उपयोग हो| इसमें साफ है कि मतगणना के दौरान यदि प्रत्याशी की आपत्ति आती है तो वीवीपैट की पेपर स्लिप की गणना के आदेश दिए जा सकते हैं। उन्होंने लिखा है कि विंध्य क्षेत्र में रीवा और शहडोल संभाग की 30 सीटों में 24 पर कांग्रेस के उम्मीदवार हारे, जो अपने आप में शंका पैदा करता हैं, क्योंकि इस क्षेत्र में 2013 में कांग्रेस के 12 उम्मीदवार जीते थे। इस बार सिर्फ छह उम्मीदवार जीते, जबकि माहौल भाजपा के विरुद्ध था। इससे शंका का माहौल है। ऐसे में विंध्य की उन 24 सीट, जहां कांग्रेस के उम्मीदवार हारे वहां वीवीपैट की पर्ची से गणना कराई जाए। यह इसलिए भी जरूरी है क्योंकि चंद माह बाद लोकसभा चुनाव होने हैं। इस दौरान अभय कुमार मिश्रा, यादवेंद्र सिंह, विनीत गोधा सहित अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

सिंह ने बताया कि हाईकोर्ट में चुनाव नतीजों को लेकर विंध्य क्षेत्र के प्रत्याशियों ने याचिका दायर की हैं। जब तक इनका निराकरण नहीं हो जाता, तब तक मशीनें सुरक्षित रखना अनिवार्य है। उन्होंने बताया है कि मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने भरोसा दिलाया है कि वीवीपैट की पेपर स्लिप सुरक्षित हैं।