भोपाल। भोपाल स्वच्छता में एक पायदान आगे बढते हुए अब ई-वेस्ट क्लीनिक के साथ ई-एंबुलेंस भी शुरू करने जा रहा है। भोपाल देश का पहला ऐसा निगम बनने जा रहा है। जहां ई-वेस्ट क्लीनिक और ई-एंबुलेंस की सुविधा दी जा रही है। ई-वेस्ट कचरा सबसे खतरनाक खचरों मे से माना जाता है और इसका निष्पादन करना भी उतना ही कठिन काम है। लेकिन निगम ने इस कचरे से निजात पाने के लिए हल निकाल लिया है। ई-एंबुलेंस के जरिए नगर निगम कबाडियों से ई-वेस्ट खरीदेगा। यह एंबुलेंस शहर के प्रमुख चौराहों पर खड़ी होंगी और मार्किट रेट से 10 फीसदी अधिक में ई-वेस्ट खरीदेंगी। इतना ही नहीं ई-वेस्ट प्रोवाइड करने वालों को प्रोत्साहित करने के लिए ग्रीन सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा। बता दें कि ई-वेस्ट मैनेजमेंट रूल्स 2016 का पालन करने और ई-वेस्ट के ज्ञानिक रूप से निष्पादन करने के लिए भानपुर खंती में देश का पहला ई-वेस्ट क्लीनिक बने जा रहा है।

क्लीनिक में होगा ये काम                                   

भोपाल में देश का पहला ई- वेस्ट क्लीनिक बनने जा रहा है। खास बात यह है यह क्लीनिक उस कचरे का उपचार करेगा। जिसे वेस्ट समझकर कबाडी को बेच दिया जाता है। ई-वेस्ट के अंदर खराब इलेक्ट्रानिक सभी इक्यूपमेंट आते हैं। भोपाल में खुल रहे इस क्लीनिक में कम्प्यूटर से लेकर मोबाइल और चार्जर तक की प्रोसेसिंग की जाएगी। जिस ई- वेस्ट की प्रोसेसिंग संभव नहीं होगी उसका उपयोग ‘कबाड़ से जुगाड़’ में किया जाएगा और कलाकृति सहित अन्य बहुत सी चीजे बनाई जाएंगी। इतना ही नहीं क्लीनिक से निकलने वाला प्लास्टिक भी रीसाइकिल होगा।