EVM पर फिर गरमाई राजनीति, मतपत्रों से चुनाव की मांग को लेकर निर्वाचन आयोग पहुंचे दिग्विजय सिंह

भोपाल,डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश में एक बार फिर मतदान सूची और EVM (Electronic Voting Machine)को लेकर राजनीतिक आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। कांग्रेस (congress) ने एक बार फिर नगरीय निकाय चुनाव (Urban body elections) को EVM के बजाए बैलेट पेपर (ballot paper)से करवाने की मांग की है।

नगरीय निकाय चुनाव को EVM के बजाए बैलेट पेपर से करवाने को लेकर कांग्रेस ने फिर से मांग उठाई है। इसी के चलते आज मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) राज्य निर्वाचन आयोग (State Election Commission)पहुंचे थे। दिग्विजय सिंह ने चुनाव को मतपत्रों से करवाने के संबंध में राज्य निर्वाचन आयुक्त को ज्ञापन सौंपा है। इस दौरान उनके साथ कांग्रेस के अन्य नेतागण भी मौजूद रहे।

दिग्विजय ने राज्य निर्वाचन आयुक्त को सौंपे ज्ञापन में कहा कि हमने हमेशा से ईवीएम का विरोध किया है। साल 2020 से कांग्रेस पार्टी (congress party ) चुनाव बैलेट पेपर से करवाने की मांग कर रही है। जितने भी चुनाव ईवीएम के द्वारा अभी तक हुए है उनकी विश्वसनीयता पर सवाल उठे है। दिग्विजय सिंह ने विरोध जताते हुए कहा कि यह कोई कानूनी बाध्यता नहीं है कि हमेशा ईवीएम से ही चुनाव करवाए जाए। उन्होंने मतदाता सूचि में भी गड़बड़ी किए जाने की बात कही है।

वहीं दिग्विजय सिंह ने भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party)पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा की कोरोना काल में बीजेपी सरकार द्वारा भ्रष्टाचार हुआ है। उन्होंने कहा कि बीजेपी वैक्सीन से लेकर लाशों के नाम पर भी भ्रष्टाचार कर सकती है। बीजेपी यह सब पैसा एकत्रित कर सरकार गिराने के लिए कर रही है।