कश्मीर पर रिटायर्ड आईपीएस की ये कैसी आशंका

EX-IPS-officer-comment-on-jammu-Kashmir

भोपाल| जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को रद्द करने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू कश्मीर और लद्दाख में विभाजित करने वाले केंद्र सरकार के फैसले को लेकर देश भर में बहस छिड़ी हुई है|  हालांकि अभी यह एक फैसला है जिसे अमल में लाकर कश्मीर की किस्मत बदलना इतना आसान नहीं होगा| नए कश्मीर में कई बड़ी चुनौतियां भी होंगी| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को सम्बोधित करते हुए इस फैसले को नए युग की शुरुआत बताया| उन्होंने अपने सम्बोधन में देश वासियों को विश्वास दिलाने की कोशिश की, जम्मू-कश्मीर के लोगों को हालात से नहीं घबराने और इसे एक अवसर के तौर पर लेने को कहा|  सीआरपीएफ के पूर्व डीजी एन के त्रिपाठी ने इस फैसले को लेकर टिप्पणी करते हुए अपनी आशंका जाहिर की है| 

सीआरपीएफ के पूर्व डीजी एन के त्रिपाठी ने सोशल मीडिया पर टिप्पणी करते हुए लिखा मोदी ने जम्मू कश्मीर के लिए एक भविष्य की समग्र दृष्टि प्रस्तुत कर कश्मीर की आहत भावनाओं को मरहम लगाया है। लेकिन अभी एक लंबा हिंसक और आतंकवादी दौर प्रतीक्षारत है !