किसान खुद करेंगे उपार्जन नीति का निर्धारण, जिला स्तर पर होंगे संवाद कार्यक्रम

Farmers-themselves-will-be-able-to-determine-the-acquisition-policy

भोपाल। प्रदेश में उपार्जन में आने वाली समस्याओं का निराकरण अब किसान खुद करेंगे।  खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता सरंक्षण मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर ने कहा है कि प्रदेश की रबी-खरीफ फसल की उपार्जन नीति में किसानों की भागीदारी सुनिश्चित होगी। इसकेलिये जिला स्तर पर किसान संवाद सम्मेलन आयोजित किये जायेंगे। मंत्री ��ोमर 21 जुलाई को झाबुआ से किसान संवाद कार्यक्रम का शुभारंभ करेंगे।

 मंत्री तोमर ने बताया कि राज्य सरकार ने उपार्जन नीति निर्धारण में किसानों के सुझाव और अनुभव को प्राथमिकता देने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि किसानों की राज्य सरकार से अपेक्षाओं को भी नीति में समावेशित किया जायेगा। तोमर ने कहा कि जिला स्तर पर आयोजित होने वाले संवाद कार्यक्रम में किसानों की अधिकाधिक भागीदारी सुनिश्चित की जायेगी। उपार्जन नीति में किसानों को फसल मंडियों तक लाने, तुलाई कराने, भंडारण और भुगतान में होने वाली परेशानियों का समाधान सुनिश्चित किया जायेगा। उपार्जन नीति को किसानोन्मुखी बनाया जायेगा।