MP: फिल्म ‘राम जन्मभूमि’ के खिलाफ फतवा जारी, रोक लगाने की मांग

fatwa-against-film-'Ram-Janmabhoomi'

भोपाल। फिल्म ‘राम जन्मभूमि’ रिलीज से पहले ही विवादों में घिरती नजर आ रही है। इस फिल्म पर रोक लगाने के लिए ऑल इंडिया उलेमा बोर्ड ने फतवा जारी कर दिया है। (एआईयूबी) के अध्यक्ष क़ाज़ी अनस अली नदवी ने कहा है कि शिया वक्फ बोर्ड उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष वसीम रिज़वी की फिल्म राम जन्मभूमि न सिर्फ विवादित है बल्कि दो समुदायों  के बीच मे नफरत पैदा करने वाली है नदवी ने यह आरोप मंगलवार को एक पत्रकार वार्ता मे प्रदेश उपाध्यक्ष नूर उल्लाह यूसुफ़ ज़ई और बोर्ड के कई पद अधिकारीयों की मौजूदगी मे लगाया है।

उन्होंने पत्रकारों को बताया की इस फिल्म मे शरीयत के साथ खिलवाड़ किया गया है इस्लाम के दो अहम और संजीदा मुद्दों को विवादित करने की कोशिश की गयी है बोर्ड यह क़तई बर्दाश्त नहीं करेगा की उसकी शरीयत से कोई खिलवाड़ करे हम मध्य प्रदेश सरकार और केंद्र सरकार से मांग करते हैं की इस फिल्म के प्रदर्शन  पर रोक लगाया जाए प्रदेश उपाध्यक्ष नूर उल्लाह यूसुफ़ ज़ई ने बताया की हमारी यह मांग है की फिल्म के प्रदर्शन से पहले एक चार सदस्यीय कमेटी बनाई जाए जिसमे दोनों समुदाय के धामिज़्क विद्वान शामिल हो वो फिल्म देखकर तय करे की फिल्म विवादित नहीं है यदि विवादित है तो इस पर रोक लगा दी जाए। आगे नूर उल्लाह युसुफ़ ज़ई ने यह भी मांग की है की फि़लहाल लोकसभा चुनाव तक इस विवादित फिल्म के प्रदर्शन पर पूर्णतः प्रतिबंध लगा दिया जाए उन्होंने यह भी कहा है की इस फिल्म को आम चुनाव के दौरान प्रदर्शन करने के पीछे फिल्म के निर्माता और लेखक वसीम रिज़वी तथा कतिपय लोगो की सोची समझि साजि़श है | इस फिल्म से दो समुदायों के बीच मे नफरत फैलाने की कोशिश की जा रही है कहीं न कहीं वोटों का ध्रुवीकरण भी फिल्म के  प्रदर्शन से प्रभावित होगा। 

उलेमा बोर्ड के उपाध्यक्ष नूर उल्लाह यूसुफ जई ने यहां संवाददाताओं को बताया, फिल्म ‘राम जन्मभूमि’ न सिर्फ विवादित है, बल्कि दो समुदायों के बीच नफरत पैदा करने वाली है| इस फिल्म में शरीयत के साथ खिलवाड़ किया गया है| इस्लाम के दो अहम और संजीदा मुद्दों को विवादित करने की कोशिश की गई है. उन्होंने कहा, इस फिल्म में तीन तलाक को गलत तरह से पेश किया गया है| इसके अलावा, इसमें बताया गया है कि एक ससुर बहू के साथ हलाला करता है| यह पूरे तौर पर गलत है| पूरी दुनिया में इसकी मिसाल नहीं मिलती. इसने मुस्लिम समुदाय के जज्बात को बुरी तरह आहत किया है| जई ने बताया, बोर्ड यह कतई बर्दाश्त नहीं करेगा कि शरीयत से कोई खिलवाड़ करे. उन्होंने कहा, हम मध्य प्रदेश सरकार एवं केन्द्र सरकार से मांग करते हैं कि फिल्म ‘राम जन्मभूमि’ के प्रदर्शन पर 48 घंटे के अंदर रोक लगायी जाए. उन्होंने कहा कि यदि 48 घंटे के अंदर इस फिल्म के रिलीज पर रोक नहीं लगाई गई, तो हम अदालत का दरवाजा खटखटांगे|

29 मार्च को रिलीज होगी फिल्म 

बता दें कि उत्तर प्रदेश शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष सैय्यद वसीम रिजवी द्वारा अयोध्या के राम मंदिर पर बनाई गई फिल्म ‘राम जन्मभूमि’ को सेंसर बोर्ड से सर्टिफिकेट मिल गया है। यह फिल्म 29 मार्च को पूरे देश में रिलीज होगी। इस फिल्म की कहानी खुद वसीम रिजवी ने लिखी है। इसका निर्माण भी उन्होंने ही किया है। फिल्म में राम मंदिर आंदोलन से जुड़ी विभिन्न घटनाओं को शामिल किया गया है। फिल्म को अयोध्या के कई महत्वपूर्ण स्थलों पर भी फिल्माया गया है।