fight-in-jail-and-attack-in-bhopal

भोपाल। भोपाल की अति सुरक्षित जेल में खूनी संघर्ष होने की खबर आ रही है। दो कैदियों ने जेल के जंग खाए लोहे के दरवाजे की रॉड निकालकर उसे चाकूनुमा बनाया और साथी कैदी के गर्दन के पीछे और चेहरे पर गंभीर घाव कर दिए। जेल प्रशासन ने घटना की सूचना गांधीनगर थाने को दी है। जहां दो कैदियों के खिलाफ अपराध दर्ज कर लिया गया है। 

भोपाल जेल में बंद टीला जमालपुरा का हिस्ट्रीशीटर यासिन उर्फ मजिस्ट्रेट और कमलानगर क्षेत्र के निगरानी बदमाश शप्पू उर्फ पिस्टल ने रविवार को दोपहर जेल में ही कैद पप्पू उर्फ चटका पर हमला कर दिया। बताया जाता है कि यह हमला जेल के ही दरवाजे की राड को चाकूनुमा बनाकर किया गया। इसके अलावा ब्लेड से भी हमला होने की सूचना है। पप्पू के गर्दन और चेहरे पर घाव है। पहले जेल प्रशासन ने बदनामी के डर से खबर को दबाने का प्रयास किया, लेकिन पप्पू चटका ने दोनों बदमाशों के खिलाफ एफआईआर कराने के लिए जमकर हंगामा मचाया। सोमवार को जेल प्रशासन ने इसकी लिखित सूचना गांधीनगर थाने में दी जहां यासिन और शप्पू के खिलाफ धारा 323,324, 506 और 294 के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया गया है। 

फायरिंग के समय वाहन में था यासिन

पिछले सप्ताह भोपाल के वीआईपी रोड पर जेल वाहन पर तीन अज्ञात युवाओं ने दो फायर किए थे। जिस वाहन पर यह फायर हुए थे उसमें यासिन उर्फ मजिस्ट्रेट भी बैठा था। आशंका जताई जा रही है कि कैदियों की आपसी रंजिश के कारण ही जेल वाहन पर फायरिंग हुई थी और इसके बाद जेल के अंदर खूनी संघर्ष हुआ है।

इनका कहना है

यह घटना रविवार को दिन में हुई थी, पप्पू चटका के कहने पर जेल प्रशासन ने गांधीनगर में एफआईआर दर्ज करा दी है। 

दिनेश नगवारे, जेल अधीक्षक भोपाल