BJP मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर के खिलाफ FIR दर्ज, षड्यंत्र करने व लोगों को भड़काने के लगे आरोप

MP News : मध्य प्रदेश बीजेपी के मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर (FIR against BJP media in-charge Lokendra Parashar) के खिलाफ षड्यंत्र करने, लोगों को भड़काने और उकसाने जैसे गंभीर के आरोप में एफ आई आर दर्ज की गई है। कांग्रेस विधि प्रकोष्ठ की शिकायत पर सिविल लाइन थाने में एफ आई आर दर्ज की गई है। एफ आई आर में लोकेन्द्र पाराशर पर राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा की वीडियो के साथ छेड़छाड़ करने के आरोप लगे हैं।

वीडियो में सुनाई दे रहा था पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा

आपको बता दें कल गुरुवार को राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा (Bharat Jodo Yatra of Rahul Gandhi) का एक वीडियो ट्वीटर पर बड़ी तेजी के साथ वायरल हो रहा था जिसमें पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे सुनाई दे रहे थे। ये वीडियो भाजपा के प्रदेश संगठन महामंत्री हितानंद, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेन्द्र पाराशर सहित अन्य की बड़े नेताओं ने अपने ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किया, शेयर किया रीट्वीट किया था।

वीडियो के अधर पर भाजपा ने कांग्रेस पर साधा था निशाना

भाजपा नेताओं ने इस वीडियो के अधर पर राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को भारत तोड़ो यात्रा बताते हुए कांग्रेस पर हमला किया और इस कृत्य को देशद्रोह बताया, सीएम शिवराज ने नारा लगाने वाले के खिलाफ कड़े एक्शन की चेतावनी दी, लेकिन कांग्रेस ने इसे फर्जी और छेड़छाड़ वाला वीडियो बताया, कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने इसके खिलाफ क़ानूनी कार्यवाही की बात कही।

कांग्रेस ने रायपुर छत्तीसगढ़ में कराई FIR

इस मामले में छत्तीसगढ़ में कल शाम एक एफ आई आर दर्ज हुई, रायपुर के सिविल लाइन थाने में कांग्रेस जिला अध्यक्ष अंकित कुमार मिश्रा ने लोकेन्द्र पाराशर के खिलाफ एफ आई आर दर्ज करवाई है उन्होंने आवेदन में कहा कि भारत जोड़ो यात्रा के वीडियो से छेड़छाड़ कर यात्रा को बदनाम करने, लोगों में भ्रम पैदा करने और उन्हें भड़काने की कोशिश की गई है , कांग्रेस के आवेदन पर रायपुर की सिविल लाइन थाना पुलिस ने मध्य प्रदेश भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेन्द्र पाराशर के खिलाफ IPC की धारा  153(क), 504, 505(1), 505(2),120 बी के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

BJP मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर के खिलाफ FIR दर्ज, षड्यंत्र करने व लोगों को भड़काने के लगे आरोप