भोपाल। शाहपुरा स्थित सब्जी फार्म के पास में बुधवार की सुबह रेलवे सोसायटी में निर्माणाधीन दुकानों में तोडफ़ोड़ करने तथा समझाइश देने पहुंची पुलिस पार्टी पर पथ्राव कर कॉलोनी को लोगों को बेरहमी से पीटने भीड़ के खिलाफ पुलिस ने तीन अलग-अलग प्रकरण दर्ज किए हैं। तीनों मामलों में 26 नामजद सहित तीस-चालिस अन्य के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। एएसपी संजय साहू के अनुसार फिलहाल 5-6 आरोपियों को हिरासत में लिया गया है। उनकी निशानदेही पर अन्य गिरफ्तारियां की जाएंगी।

पुलिस के अनुसार शाहपुरा में सब्जी फार्म के पास रेलवे सोसायटी की जमीन है। जमीन के बड़े हिस्से पर मंदिर का निर्माण स्थानीय लोगों ने कर दिया है। मंदिर तक जाने के लिए मुख्य सड़क पर रेलवे सोसायटी द्वारा 11 दुकानों का निर्माण कराया गया है। दुकानों में शटर लग चुके हैं। बुधवार सुबह से ही मंदिर के आसपास रहने वाले मंदिर प्रांगण में इकट्टा होने लगे थे। इस बीच किसी ने पुलिस को सूचना दी थी। सूचना मिलते ही मौके पर सीएसपी हबीबगंज और थाना प्रभारी शाहपुरा आशीष भट्टाचार्य पुलिसकर्मियों के साथ पहुंचे थे। उनके साथ थाने से बल भी पहुंचा था। हालांकि जब मौके पर पुलिस पहुंची तो भीड़ काफ ी नजर आई। पुलिस ने एहतियात के तौर पर हबीबगंज थाने से भी पुलिसबल बुला लिया था। जब पुलिस पहुंची तो मंदिर के आसपास रहने वाले लोग हाथ में डंडे और रॉड लेकर शटर में तोडफ़ ोड़ कर रहे थे। पुलिस को आता देख लोग कुछ देर के लिए रुक गए। पुलिस ने भीड़ को समझाइश दी थी। भीड़ में मौजूद लोग कुछ देर के लिए रुक गए। इसके बाद नारेबाजी कर उग्र हो गए और महिलाओं के पीछे खड़े कुछ लोगों ने पथराव शुरू कर दिया। पत्थर सीएसपी भूपेंद्र सिंह की पसली में जाकर लगा था। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हुए। इसी के साथ टीआई शाहपुरा आशीष भट्टाचार्य सहित एसआई जयपाल बिल्लोरे, हबीबगंज थाने के के एसआई राहुल राय को भी पत्थर लगने से चोट आई हैं। अचानक हुए हमले में पुलिसकर्मीयों को जान बचाने के लिए स्पॉट से वापस लौटना पड़ा। मौके पर तनाव के हालातों को देखते हुए एसटीएफ जवानों की तैनाती की गई है।

इन पर हुई कार्रवाई

उक्त मामले में पुलिस ने मनोज,लीलाकिशन, मोहनलाल, राजू, जगदीश, नवल, विनोद, दीपक, खन्नु कुशवाह, भूपेंद्र, कमल, अनिल, राहुल, अमर सिंह, सचिन दास, सतीश, मुन्नालाल, सचिन, दीपक, छोटेराम, दिलीप, विजय, विवेक, धीरेंद्र, मनीष व नरेंद्र समेत 30-40 लोगों पर बलवा, मारपीट, तोडफ़ोड़, पथराव, शासकीय कार्य में बाधा समेत अन्य धाराओं में प्रकरण दर्ज किया है। पुलिस ने स्थानीय लोगों से मोबाइल से बनाए कुछ वीडियो भी लिए हैं, जिसके आधार पर आरोपियों की शिनाख्त कर तलाश की जा रही है।