फर्स्ट लेडी कमिश्नर कल्पना श्रीवास्तव ने संभाला कार्यभार, बोलीं- ‘काम ही मेरी प्राथमिकता’

First-lady-commissioner-Kalpana-Shrivastav-took-over-the-charge

भोपाल| आजादी के बाद पहली बार भोपाल संभाग की कमान सरकार ने महिला आईएएस अधिकारी कल्पना श्रीवास्तव को सौंपी है। गुरूवार को उन्होंने भोपाल के संभाग आयुक्त का कार्यभार ग्रहण किया|  इस  मौके पर उन्होंने कहा कि काम ही मेरी प्राथमिकता होगी| हमारे पास अच्छे कलेक्टरों की टीम है| सरकार की योजनाओं को लोगों तक पहुंचाएंगे और संगीत से तनाव मुक्त रहने की कोशिश होगी| 

संभाग आयुक्त कल्पना श्रीवास्तव ने कहा कि महिला होने के नाते इतनी बड़ी जिम्मेदारी मिलने से बेहद खुश हूं और गौरव महसूस कर रही हूं। मैं महिलाओं के हित में बेहतर से बेहतर काम करूंगी और शासन की योजनाओं का लाभ जन जन तक पहुंचाने के लिए पूरी टीम के साथ प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने भोपाल के बड़े तालाब और उसके केचमेंट को लेकर कहा कि जल्दी कलेक्टर सहित अधिकारियों के साथ इस मामले में समीक्षा बैठक की जाएगी और पेंडिंग काम निपटाया जाएगा। भोपाल सहित भोपाल संभाग में आने वाले अन्य जिलों में शासकीय जमीनों पर अतिक्रमण को जल्द से जल्द हटाया जाएगा। इसके लिए सभी कलेक्टरों के साथ बैठकर नई बनाई जाएगी। इसी तरह बीडीए पेंडिंग प्रोजेक्टों की समीक्षा बैठक कर इन्हें जल्द से जल्द समाप्त करा कर जनता को उनके मकान सौंपने के लिए काम किया जाएगा।  

इसीलिए जताया भरोसा

1992 बैच की आईएएस अधिकारी कल्पना श्रीवास्तव अपनी तेजतर्रार कार्यशैली और नवाचारो के लिए एक जाना पहचाना नाम है। मध्य प्रदेश की सरकार को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति दिलाने वाली लाडली लक्ष्मी योजना दरअसल कल्पना श्रीवास्तव की ही उपज है। महिला एवं बाल विकास विभाग में आयुक्त रहते समय उन्होंने इस योजना को  जन्म दिया था और उसके बाद में पूरे प्रदेश के अंदर इसका व्यापक विस्तार भी किया। तकनीकी शिक्षा विभाग का प्रभार रहते समय उन्होंने कौशल उन्नयन के क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण कार्य किए उन्हीं के कार्यकाल में राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय को नैक  की ए ग्रेडिन्ग मिली थी। कल्पना को 2013 14 में लाडो अभियान के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अवॉर्ड फॉर एक्सीलेंस इन पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन से सम्मानित किया था। इसके अलावा वे मीडिया लाडली अवॉर्ड सहित कई अन्य पुरस्कारों से सम्मानित हो चुकी है। कल्पना को इस बात का भी श्रेय जाता है कि जब राज्य सरकार की आय के स्रोत कम हो रहे थे आईजी मुद्रांक एवं पंजीयन रहते हुए उन्होंने  विभाग के माध्यम से राज्य सरकार की आय में लगातार बढ़ोतरी की। इतना ही नहीं कल्पना ने जमीनों के फर्जीवाड़े को रोकने के लिए यह व्यवस्था भी की कि रजिस्ट्री के साथ साथ व्यक्ति की जमीन का नामांतरण भी तत्काल हो जाए। कल्पना की इसी कार्यशैली और नवाचारो के चलते कमलनाथ सरकार ने उन पर भरोसा जताया है और उन्हें भोपाल जैसे महत्वपूर्ण संभाग की जिम्मेदारी सौंपी है