हाई अलर्ट ड्यूटी पर WhatsApp में व्यस्त मिले 6 पुलिसकर्मी, SP ने किया सस्पेंड

जबलपुर। अयोध्या फैसले के बाद प्रदेश की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। एमपी पुलिस द्वारा चप्पे चप्पे पर नजर रखी जा रही है। सीएम कमलनाथ खुद कंट्रोल रुम से नजर जमाए हुए है। कई जगहों पर इंटरनेट सेवाएं भी बद कर दी गई है। इसी बीच जबलपुर एसपी अमित सिंह ने 6 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है। बताया जा रहा है कि ये लोग ड्यूटी के दौरान वाट्सअप पर चैटिंग कर रहे थे।

दरअसल, शनिवार को अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से ही देशभर में सुरक्षा बढ़ा दी गई है, ताकी कोई घटना या विवाद ना हो। शनिवार से ही अधिकारी मोबाइल वैन में घूमकर उद्घोषणा करने लगे कि धारा 144 लागू की जा चुकी है लिहाजा लोग भीड़ के रूप में एकत्र न हों। कलेक्टर भरत यादव, पुलिस अधीक्षक अमित सिंह समेत प्रशासन व पुलिस के आला अधिकारी शहर की सड़कों पर घूमते नजर आए। इस दौरान एसपी ने संवेदनशील इलाकों में दौरा करते हुए कुछ पुलिसकर्मियों को सोशल मीडिया पर व्यस्त देखा था, वे वाहन से उतरकर दबे पांव जवानों के पास पहुंचे और फटकार लगाई। एसपी अमित सिंह भी मुख्यमंत्री के निर्देश पर जिले की पल-पल की न सिर्फ जानकारी ले रहे थे बल्कि खुद शहर भृमण भी कर रहे थे। एसपी के शहर में चोकसी व्यवस्था देखने के दौरान उन्होंने देखा कि कुछ पुलिसकर्मी अपने अपने मोबाइल में लगे हुए है। एसपी ने ड्यूटी के दौरान इसे बड़ी लापरवाही माना है लिहाजा सिंधी कैम्प के पास तैनात 4 सिपाही को निलंबित कर दिया है वही 2 हवलदार को भी ड्यूटी के समय मोबाइल में मशगूल रहने पर उन्हें निलंबन की सजा दी है| 

सुप्रीम कोर्ट ने जो भी फैसला दिया है प्रत्येक नागरिक को उसे शिरोधार्य करना चाहिए। जो भी अवहेलना करता है उसके विरुद्ध गिरफ्तारी कर जेल भेजने की कार्रवाई की जाएगी। जिले भर में पुलिस बल को तैनात किया गया है। ऐसे लोग जो कानून व्यवस्था के खिलाफ रहते हैं उनके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की तैयारी की गई है। फैसले के बाद जिले में कहीं भी इस मुद्दे पर अप्रिय सूचना नहीं मिली।

-अमित सिंह, एसपी, जबलपुर