राजधानी में करीब 1 हजार एक्टिव मरीज रहेंगे होम आइसोलेशन में

प्रशासन कर रहा होम आइसोलेशन पर फोकस

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। भोपाल में कोरोना (Corona In Bhopal) का प्रकोप लगातार बरप रहा है। जिसकी वजह से आए दिन संक्रमित मरीजों (Infected Patients) की तादाद में तेजी से इजाफा हो रहा है। लिहाजा कोरोना के बढ़ते रोगियों को देखते हुए जिला प्रशासन ने होम आइसोलेशन (Home Isolation) पर फोकस करना शुरू कर दिया है।

कलेक्टर अविनाश लवानिया (Collector Avinash lavaniya) ने बताया कि जिन कोरोना संक्रमित मरीजों में लक्षण नहीं दिखते हैं या जिन्हें सांस लेने में तकलीफ नहीं होती है या फिर हॉस्पिटल बेड की आवश्यकता नहीं है, उन मरीजों को घर पर ही आइसोलेट किया जा रहा है। वहीं मॉनिटरिंग के दौरान जरूरी दवाएं दी जा रही है।

प्राइवेट अस्पतालों (Private Hospital) के मरीजों के लिए आईएमए टेली कंसल्टेशन की लिस्ट बनाई गई है, जिसके जरिए मरीजों को डॉक्टर द्वारा सलाह दी जायेगी। इसको लेकर रिस्पांस भी अच्छा आ रहा है। कलेक्टर अविनाश लवानिया ने बताया कि राजधानी में दो हजार एक्टिव मरीज मौजूद हैं, जिसमें से करीब आधे मरीजों को होम आइसोलेशन में रखा गया है। इन सभी मरीजों को आवश्यक सुविधाएं प्रदान की जा रही है।

होम आइसोलेशन मरीजों की मॉनिटरिंग प्रशासन ने जिन कोरोना मरीजों को होम आइसोलेशन में रखा है। उन्हें दिन में दो बार मॉनिटरिंग सेंटर से वीडियो कॉलिंग की जा रही है। वहीं मरीजों को पहले से बताया गया है कि ऑक्सीमीटर रखकर ऑक्सीजन रीडिंग और टेंप्रेचर रीडिंग चेक करेंगे।