भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के बढ़ते कहर को देखते हुए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा। उन्होंने पत्र में मुख्यमंत्री से अनुरोध किया कि 21 दिन के लाउड लॉक डाउन के चलते छोटे व्यापारियों एवं गरीब दुकानदार अपना रोजगार खो बैठे हैं । इसलिए गरीब वर्ग के लोगो का मार्च एवं अप्रैल में बिजली एवं पानी का बिल माफ कर दिया जाये ।

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने अनुरोध करते हुए कहा है कि मध्यप्रदेश में 200 यूनिट बिजली खर्च करने वाले उपभोक्ताओं के मार्च एवं अप्रैल के बिजली बिल एवं प्रदेश के सभी नगर निगमों नगरपालिका के अंतर्गत पेयजल उपभोक्ताओं का भी बिल माफ करने का आदेश जारी करें। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यम वर्ग के लोगों को कोरोना के चलते आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है और साथ ही घरों में रहने के कारण उनकी आर्थिक आय भी समाप्त हो गई है और रोजमर्रा की जरूरत जैसे बिजली, पानी में वृद्धि हो रही है। कोरोना महामारी से उत्पन्न हालातों को देखते हुए इन सभी गरीबों एवं अन्य कम आय वाले वर्गो के लोगों को हालातों से निपटने के लिए बिजली और पानी के बिलों में राहत प्रदान कर दी जाए।

गौरतलब हो इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पत्र लिखकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से आग्रह किया था कि जनता को मिलने वाले मुफ्त अनाज उनतक नहीं पहुंच पा रहे हैं। जिससे कि उन्हें काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से आग्रह किया था कि वह इस विषय पर संज्ञान ले एवं जल्द से जल्द जरूरतमंदों को मुफ्त राशन उपलब्ध करवाए जाए।

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने सीएम को लिखा पत्र, कहा - माफ़ किए जाए जनता के ये खर्चे