दिग्विजय सिंह

भोपाल।

अपने बयानों से सियासी गलियारों में हलचल और हर पल सरकार को वादा याद दिलाने वाले कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह चौबीस घंटे में ही अपना वादा भूल गए और मंच पर जा बैठे।जबकी उन्होंने मंच पर न बैठने का वादा प्रेस विज्ञप्ति के जरिए किया था, लेकिन 24 घंटे तक भी वह अपना वादा नहीं निभा सके।करीब 3 घंटे तक वे नेताओं के साथ मंच पर बैठे रहे।इससे पहले उनके हॉल में आते ही बिजली भी गुल हो गई।इस दौरान उन्होने आरएसएस पर भी जमकर निशाना साधा ।इस दौरान जब उन्होंने आरक्षण की वकालत की तो कैबिनेट मंत्री ने उन्हें उनका कार्यकाल याद दिला दिया और कहा कि उनके फैसलों से पार्टी को नुकसान उठना पड़ा।

दरअसल, भोपाल लोकसभा सीट से चुनाव हारने के बाद से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह राजधानी में सक्रिय हैं। दिग्गी हर छोटे-बड़े कार्यक्रमों में शिरकत करते हैं। वह रविवार को समन्वय भवन में आयोजित अहिरवार समाज के राष्ट्रीय अधिवेशन में शामिल हुए हैं। लेकिन इस कार्यक्रम से ठीक 24 घंटे पहले मंच पर नहीं बैठने का वादा दिग्विजय सिंह नहीं निभा पाए। उन्होंने नेताओें के साथ मंच साझा किया और एक दो घंटे नहीं बल्कि पूरे तीन घंटे मंच पर डटे रहे। दिग्विजय सिंह ने अपने संबोधन में आरक्षण की वकालत की। उन्होंने कहा कि आरक्षण अवसर है, ये बुनियादी सोच है। आरक्षण नहीं होता, तो क्या के. आर. नारायण राष्ट्रपति के पद तक पहुंचते। उन्होंने आरएसएस पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अब देश में लड़ाई विचारधारा की है। आरएसएस के खिलाफ इसलिए बोलता हूं, क्योंकि उनकी विचारधारा देश के हित में नहीं है। आरएसएस सिर्फ हिंदु राष्ट्र के एजेंटे पर चलता है। उन्होंने यह भी कहा कि अहिरवार समाज की मांगों पर सीएम से चर्चा हुई है…आउट सोर्स में एसटी-एसएसी को मौका देने पर विचार हो रहा है।

दिग्विजय सिंह जब कार्यक्रम में पहुंचे, तो वैसे ही बिजली गुल हो गई। कुछ मिनटों बाद बिजली गई भी गई, लेकिन इस दौरान हॉल में जमकर हंगामा हुआ। कार्यक्रम में पहुंचे मंत्री प्रभुराम चौधरी ने अपने संबोधन के दौरान लोगों को दिग्विजय सिंह के कार्यकाल का याद दिलाया। उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह के फैसलों से लोगों को पट्टे मिले। वरना जमीन पर कब्जा हो जाता।उन्होंने यह भी कहा कि जिन कामों को साहस के साथ दिग्विजय सिंह ने किया, उन्हीं फैसलों की वजह से उनको और पार्टी को नुकसान भी उठाना पड़ा था। चौधरी ने कहा कि प्राइवेट सेक्टर में आरक्षण देने की व्यवस्था भी सरकार कर रही है। कार्यक्रम में मंत्री लखन घनगोरिया, पंजाब से आए सांसद अमर सिंह, आईएएस अधिकारी जेएन कंसोटिया के साथ कई नेता मौजूद रहे।