भोपाल/गुना, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ( former cm digvijaya singh) ने गुना (guna) जिले की मक्सूदनगढ़ तहसील (Maxudangarh Tehsil) के तहसीलदार और हल्का पटवारी पर सरकारी रिकॉर्ड में हेराफेरी (Misappropriation in official records) को लेकर कार्रवाई करने की मांग जिला कलेक्टर से पत्र लिख कर की है। पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह (former cm digvijaya singh) ने पत्र में दोनों को ही तुरंत निलंबित (suspended) करने की मांग की है। पूर्व सीएम ने इस पत्र को मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस (Chief Secretary Iqbal Singh Bains) को भी भेजा है।

पूर्व सीएम ने आरोप लगाते हुए अपने पत्र में लिखा कि जिले के मक्सूदनगढ़ तहसील के तहसीलदार सत्येंद्र सिंह गुर्जर (Tehsildar Satyendra Singh Gurjar) ने कडईखेड़ा गांव (Kadikheda Village) में स्थित भूमि सर्वे क्रमांक 6/3 रकबा 2.090 हेक्टेयर के नामांतरण के संबंध में पारित किए गए आदेशों की जांच की जाए। दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने लिखा कि एक आदेश साल 2019 के 22 अक्टूबर को जारी किया गया था, वहीं दूसरा आदेश उसी साल 31 दिसंबर को जारी किया गया था।

ये भी पढ़े – MP उपचुनाव 2020 – कांग्रेस से जीतू पटवारी और गुड्डू के खिलाफ और बीजेपी प्रवक्ता उमेश शर्मा पर एफआईआर दर्ज

पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया है कि ये भूमि पहले सरकारी खाते में थी, जिसको बेचने की अनुमति कलेक्टर से नहीं ली गई थी। आगे उन्होंने लिखा कि अगर तहसीलदार के पहले आदेश में ये जमीन पटवारी रिकार्ड के अनुसार शासकीय खाते में भी तो दूसरे आदेश में ये जमीन पटवारी रिकॉर्ड के अनुसार प्राइवेट खाते में कैसे चली गई। पूर्व सीएम ने फर्जी तरीके से नामांतरण करने पर हल्का पटवारी और मक्सूदनगढ़ तहसीलदार को तुरंत निलंबित कर मामले की निष्पक्ष जांच करने की मांग की है। साथ ही उन्होंने दोषियों पर कार्रवाई करने की भी मांग की है।

गुना कलेक्टर को पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने लिखा पत्र, तहसीलदार और पटवारी पर कार्रवाई करने की मांग