कमिश्नर ने पूर्व मंत्री पर 5 करोङ का मानहानि दावा ठोका

भोपाल। मध्य प्रदेश के रीवा नगर निगम कमिश्नर सभाजीत यादव ने पूर्व मंत्री और भाजपा विधायक राजेंद्र शुक्ल पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने पूर्व मंत्री को एक पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने मानसिक प्रताड़ना और सामाजिक प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचाने का काम किया है। उन्होंने पूर्व मंत्री से 5 करोड़ देने की मांग की है। साथ ही चेतावनी दी है कि अगर उन्होंने मानहानी के तौर पर यह रकम नहीं दी तो वह कानून मदद भी लेंगे। 

गौरतलब है कि, पूरे मामले में सभाजीत यादव के बारे में पूर्व मंत्री और रीवा से विधायक राजेन्द्र शुक्ल ने कहा मैंने पहले भी कहा था यह मानसिक रूप से असंतुलित व्यक्ति है और किस प्रकार का बयान देना चाहिए कोई ज्ञान नहीं है. आसमान की ओर मुंह करके थूकने पर किसका मुंह गंदा होता है खुद ही का. यह अधिकारी नियम कायदों को ताक पर रखकर अधिकार क्षेत्र से बाहर जाकर कार्रवाई करते हैं. राजेन्द्र शुक्ल ने कहा मैं कह रहा हूं कि मानसिक रूप से असंतुलित व्यक्ति के बारे में समय खराब करने से मुझे नहीं लगता कोई फायदा है.

राजेन्द्र शुक्ल ने सभाजीत यादव पर आरोप लगाते हुए कहा कि, मुझे लगता है कि, राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं के चलते कांग्रेस के नेताओं को खुश करने के लिए वह इस प्रकार की बयानबाजी कर रहे हैं. राजेन्द्र शुक्ल ने कहा राजनीति का कीड़ा अगर एक बार शरीर में प्रवेश कर जाता है तो वह फिर समय-समय पर रेंगने लगता है और वह व्यक्ति को स्थिर रखता नहीं है. हो सकता है भविष्य में कांग्रेस पार्टी में शामिल होकर चुनाव लड़ने की मंशा हो.

राजेन्द्र शुक्ल ने सभाजीत यादव द्वारा पत्र में डंपर का जिक्र करने पर कहा यह ना राजनीतिक है ना बौद्धिक है ना प्रशासनिक है यह विक्षिप्त मानसिकता का परिचायक है. सरकार क्योंकि कांग्रेस की है वह सभाजीत पर क्या कार्रवाई करते हैं इसके बारे में तो मैं नहीं कह सकता, लेकिन ऐसा व्यक्ति को कभी फील्ड में नहीं भेजना चाहिए. बंदर के हाथ में उस्तरा पकड़ाने जैसा होता है. लोगों को प्रताड़ित करेंगे, ब्लैकमेल करेंगे, परेशान करेंगे अपने स्वार्थों की सिद्धि पूरी करने के लिए पूरी ऊर्जा लगाएंगे. क्षेत्र के विकास से और जनता के कल्याण से इस प्रकार के अधिकारियों का फील्ड में पोस्टिंग के बाद कोई लेना देना होता नहीं है. यह इनकी तमाम कार्यप्रणाली से रीवा की जनता को अच्छी तरह समझ में आ रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here