भोपाल। जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी के प्रोडक्ट के डीलर व पुराने शहर के बड़े व्यवसायी एसके अग्रवाल को फर्जी बिलिंग कर 23 लाख रुपए का चूना लगाने का मामला सामने आया है। इस फर्जीवाड़े में जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी का ऑडर लेने वाला एक कर्मचारी और व्यावसायी के दो कर्मचारी शालि हैं। पुलिस ने अमानत में ख्यानत और धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। मुख्य आरोपी कोलकाता का रहने वाला है, इसलिए उसकी गिरफ्तारी के लिए भोपाल पुलिस कोलकाता पुलिस से संपर्क कर रही है। हनुमानगंज थाने के एसआई बाबूलाल पाराशर ने बताया कि जुमेराती में एसके अग्रवाल की बड़ी फ र्म है। वे जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी के डीलर भी हैं। जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी के ऑर्डर लेने वाले कर्मचारी इमरान बारी ने अग्रवाल के कर्मचारी अशोका गार्डन निवासी बादशाह और नूरमहल निवासी सत्यम गौर का सहयोग लिया। अग्रवाल की फ र्म की तरफ से बादशाह दुकानों में ऑडर लेने जाता था, वहीं सत्यम गौर पिकअप वाहन से प्रोडक्ट की डिलिवरी देने ताजा था। मार्केट में जब जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी के प्रोडक्ट बिकना कम हो गए तो इमरान बारी ने उक्त दोनों कर्मचारियों को इन्सेंटिव का झांसा देकर फर्जी बिलिंग शुरू कर दी। 100 रुपए के सामान को इन्वेंटिव के चक्कर में 80 से 90 रुपए में खुदरा दुकानदारों को देने लगा, ताकि कंपनी की सेल कम न हो और उसे इन्सेंटिव मिलता रहै। इतना ही नहीं इमरान बारी फर्जी दुकानों व गलत पते के ऑडर लेने लगा। जिस पते पर ऑडर लेता था, वहां माल सप्लाई और कलेक्शन का कार्य बादशाह और सत्यम गौर कर रहे थे। इन लोगों ने भी एसके अग्रवाल से हकीकत नहीं बताई और इमरान बारी के फ र्जीवाड़े में शामिल हो गए।

23 लाख ड्यू तो छोड़ दी नौकरी

फर्जी द़ुकानों के नाम बिलिंग करते गए, लेकिन 100 रुपए का माल 80 में बेचने पर वसूली 100 प्रतिशत नहीं हो पा रही थी। मार्के ट में 23 लाख की वसूली जब अग्रवाल की बकाया हो गई तो इमरान बारी कंपनी की नौकरी छोड़कर कोलकाता भाग गया। साथ ही बादशाह और सत्यम गौर ने भी नौकरी छोड़ दी। पुलिस ने शिकायत के आधार पर धोखाधड़ी, अमानत में ख्यानत का मामला दर्ज कर बादशाह और सत्यम गौर को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है।